BJP से दोस्ती रहती तो CM बना रहता, कांग्रेस के साथ जाकर भरोसा खो दिया, पूर्व सीएम ने सुनाया दुखड़ा!


कर्नाटक के पूर्व सीएम और जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस के साथ हाथ मिलाकर पार्टी ने जनता का भरोसा खो दिया है, पूर्व सीएम कुमारस्वामी ने कहा कि वह जाल में फंस गये थे, उन्होने कांग्रेस नेता सिद्धारमैया पर षडयंत्र रचने का आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी ने भी उन्हें इतना बड़ा धोखा नहीं दिया।

झूठ बोलने में माहिर
सिद्धारमैया ने पलटवार करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री को लेकर कहा कि कुमारस्वामी झूठ बोलने में माहिर हैं, और आंसू बहना उनके परिवार की पुरानी आदत है, कुमारस्वामी ने मैसूर में कहा, अगर मैं बीजेपी से अच्छे संबंध बनाये रखता, तो अभी भी मुख्यमंत्री होता, मैंने 2006-07 में (मुख्यमंत्री के तौर पर) राज्य की जनता का जो भरोसा हासिल किया था, जिसे 12 साल तक बरकरार रखा था, वो कांग्रेस के साथ हाथ मिलाकर खो दिया, पूर्व सीएम ने कहा कि उन्हें कांग्रेस से हाथ नहीं मिलाना चाहिये था, जिसने जेडीएस को बीजेपी की बी टीम कहकर उनके खिलाफ अभियान चलाया था, लेकिन पार्टी प्रमुख देवेगौड़ा की वजह से वो गठबंधन सरकार बनाने के लिये राजी हुए थे।

खामियाजा भुगतना पड़ा
कुमारस्वामी ने कहा कि मेरी पार्टी को अपनी मजबूती खोकर उसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है, मैं देवेगौड़ा की भावनाओं के चलते जाल में फंस गया था, जिसका खामियाजा स्वतंत्र रुप से 28-40 सीटें जीतने वाली मेरी पार्टी को बीते 3 साल में हुए चुनाव के दौरान भुगतना पड़ा है। कुमारस्वामी ने स्पष्ट किया कि वो देवेगौड़ा को दोष नहीं दे रहे क्योंकि वो धर्म निरपेक्ष पहचान के प्रति अपने पिता की आजीवन प्रतिबद्धता को समझते तथा उसका सम्मान करते हैं, 2018 के कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जब किसी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला था, तो एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले कांग्रेस-जेडीएस ने मिलकर सरकार बनाई थी, कुमारस्वामी को सीएम पद दिया गया था।

सरकार गिर गई
दोनों पार्टियों ने पिछले साल साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ा था, जिसके बाद गठबंधन में आंतरिक मतभेद पैदा हो गये, तथा कुछ विधायकों की बगावत की वजह से गठबंधन सरकार गिर गई, कुमारस्वामी के आरोपों पर पलटवार करते हुए पूर्व सीएम और कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने पलटवार किया है, उन्होने कहा कि कुमारस्वामी झूठ बोलने में माहिर है, वो राजनीति के खातिर हालात के मुताबिक झूठ बोल सकते हैं, जेडीएस को 37 सीटें मिलने के बावजूद उन्हें सीएम बनाना क्या हमारी गलती थी।

close