पश्चिमी दिल्ली के ख्याला इलाके में बिना लाइसेंस चल रही फैक्ट्रियां


नई दिल्ली: पश्चिमी दिल्ली के ख्याला इलाके के विष्णु गार्डन आर जेड ब्लॉक इलाके में छोटी-छोटी सैकड़ों फैक्ट्रियां चल रही हैं. लेकिन स्थानीय लोगों का आरोप है कि इन फैक्ट्रियों को नोटिफाई नहीं किया जाता. इसलिए चोरी छिपे इन फैक्ट्रियों को चलाते हैं. लोगों के अनुसार इसमें सरासर एजेंसियों की गलती है क्योंकि लोग नोटिफाई कराने की प्रक्रिया के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. लेकिन एजेंसी ऐसा करती नहीं जबकि सात के इलाके नोटिफाई हैं. हालांकि एजेंसियां इस बारे में बात करने को तैयार नहीं हैं. बीते दिनों में इसी इलाके में हादसा हुआ था और वह फैक्ट्री भी नोटिफाई नहीं थी.


सैकड़ों फैक्ट्री लेकिन एजेंसी नही करती नोटिफाई
ख्याला इलाके में जहां फैक्ट्री हादसा हुआ वहां आसपास के तमाम इलाकों में सैकड़ों छोटी-छोटी फैक्ट्रियां चल रही हैं. लेकिन एमसीडी इसे नोटिफाई नहीं करती है. स्थानीय लोगों का कहना है कितनी फैक्ट्री होने के बावजूद और लोगों के कोशिशों के बावजूद इस इलाके को नोटिफाई नहीं किया जा रहा है जबकि इसके साथ वाले इलाके नोटिफाई हैं और यही वजह है कि लोग अपना पेट पालने के लिए छोटी-छोटी फैक्ट्रियां दबे छिपे चला रहे हैं.

एमसीडी नहीं देती फैक्ट्री का लाइसेंस

लोगों का कहना है जिनके पास पहले से बिजली के 3 फेस कनेक्शन हैं. वो फैक्ट्री चला रहे हैं जबकि एमसीडी इन्हें इंडस्ट्रियल इलाके में जाने को कहती है लेकिन वहां ना वो जमीन खरीद सकता है और ना ही किराया भर सकता है. क्योंकि ये छोटी छोटी 12-12 गज में फैक्ट्री चलती हैं. लोग खुद ही कह रहे यहां ना एमसीडी फैक्ट्री के लिए लाइसेंस देती है और दिल्ली प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड अपना कंसर्न देता है. ये पूरी तरह से अवैध इलाका है फिर भी फैक्ट्री चल रही हैं.

एजेंसी की बड़ी लापरवाही
इस इलाके के नोटिफाई नहीं होने के कारण यहां फैक्ट्रियां नहीं चल सकती हैं, लेकिन फिर भी चल रही हैं. जो साफतौर पर एमसीडी की बड़ी लापरवाही को उजागर करती है. शायद इसीलिए इस बारे में कोई बात करने को तैयार नहीं है.

close