सपा की किसान यात्रा पर पुलिस का पहरा, अखिलेश यादव घर में कैद


लखनऊ।
 कृषि कानूनों को लेकर चल रहा किसान सगठनों का विरोध प्रदर्शन बढ़ाता ही जा रहा है। देश में विपक्ष के सभी दल किसानों के समर्थन में आ गए हैं और आठ दिसंबर को किसानों द्वारा बुलाए गए भारत बंद का समर्थन किया है। वहीं उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी द्वारा किसानों के समर्थन सोमवार से किसान यात्रा निकलने की बात पूर्व सीएम अखिलेश यादव द्वारा की गई थी। जिसे देखते हुए उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में सुरक्षा बड़ा दी गई है। लखनऊ में सपा के विक्रमादित्य रोड पर बने कार्यालय को पुलिस कैंप के तौर में बदल दिया गया है। भारी संख्या में जवान खड़े किये गए हैं। गौरतलब है कि, अखिलेश यादव को आज लखनऊ से कन्नौज जाना है। उन्हें पहले किसान यात्रा में शामिल होना है, जिसके बाद उन्हें किसान मंडी भी जाना है। पार्टी पहले ही 8 दिसंबर को भारत बंद का समर्थन कर चुकी है।

पुलिस ने समाजवादी पार्टी के कार्यालय से लेकर अखिलेश यादव के घर तक बैरिकेडिंग लगा दी है और किसी को भी आने जाने देने की अनुमति नहीं है। अगर सपा के कार्यकर्त्ता प्रदर्शन करते हैं तो पुलिस उसके लिए भी तैयार है। क्षेत्र को पूरी तरह से सील कर दिया गया है और वाटर कैनन लिए गाड़ियां खड़ी है। सपा एमएलसी राजपाल कश्यप और आशू मलिक को लखनऊ पुलिस ने हिरासत में ले लिया है, दोनों ही नेता सपा ऑफिस जाने की कोशिश कर रहे थे। मीडिया से बात करते हुए राजपाल कश्यप ने कहा कि, पुलिस हमे क्यों रोक रही है, ये तो अघोषित आपातकाल है। अखिलेश यादव को कन्नौज जाने से क्यों रोका जा रहा है।

गौरतलब है कि, उत्तर प्रदेश में वर्ष 2022 विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनाव से पहले विपक्ष को किसान आंदोलन एक ऐसा मुद्दा मिल गया है, जिसे लेकर वो सरकार को घेरना चाहती है। यही वजह है कि, किसान यात्रा करके सपा खुद को राज्य में मजबूत करने की तैयारी में थी लेकिन जिस तरह प्रदेश सरकार ने इस यात्रा पर रोक लगा दी है और अखिलेश यादव को घर में ही रोक दिया गया है। अब ऐसा होना मुश्किल ही लग रहा है।

close