राजद और कांग्रेस से मिले हुए हैं चिराग पासवान, बीजेपी प्रेम दिखावा, अपने ही नेता ने खोला मोर्चा!


बिहार विधानसभा चुनाव नतीजों ने लोजपा को भारी निराशा में धकेल दिया है, लोजपा की बुरी हार के बाद अब पार्टी में आंतरिक कलह भी सतह पर आने लगा है, पार्टी के बड़े नेता खुलकर राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान के खिलाफ मोर्चा खोल रहे हैं, लोजपा नेता केशव सिंह ने चिराग पर बड़ा आरोप लगाया है, उन्होने कहा कि चिराग पासवान राजद और कांग्रेस से मिले हुए हैं, इतना ही नहीं उन्होने यहां तक कह दिया कि उनका भाजपा प्रेम महज दिखावा है।

बुरी तरह हारी लोजपा
चिराग पासवान की अगुवाई में पार्टी की बुरी हार से नाराज केशव सिंह ने कहा कि चिराग की दुश्मनी नीतीश कुमार से थी, लेकिन उन्होने बीजेपी, हम और वीआईपी के खिलाफ भी उम्मीदवार उतारे, उन्होने बिहार में एनडीए को हराने के लिये व्यूह रचना की, हालांकि उसमें खुद ही फंस गये, केशव सिंह ने कहा कि चिराग लोजपा में अकेले रह जाएंगे, अगले ही महीने असली लोजपा का गठन होगा, पार्टी की हार पर केशव सिंह ने कहा कि चिराग के नेतृत्व में ये पार्टी की सबसे बड़ी हार है, रामविलास पासवान के समय पार्टी के 29 विधायक थे, आज सिर्फ 1 है।

महागठबंधन से मिले हैं चिराग
लोजपा नेता ने चिराग पासवान पर आरोप लगाते हुए कहा कि वो अंदर से महागठबंधन के लिये काम करते हैं, इसलिये तो राघोपुर और भागलपुर में बीजेपी के खिलाफ उम्मीदवार उतारा था, दोनों ही जगहों बीजेपी की हार हुई, उन्होने राघोपुर में तेजस्वी यादव को जिताने तथा भागलपुर में कांग्रेस के अजित शर्मा को जितवाने में बड़ी भूमिका निभाई, आज तेजस्वी बाहर विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष बन गये हैं, जबकि अजित शर्मा कांग्रेस विधायक दल के नेता हैं।

पार्टी ने निकाला बाहर
चिराग पासवान के खिलाफ बयानबाजी करने के आरोप में केशव सिंह के खिलाफ एक्शन लिया गया है, लोजपा ने केशव को 6 साल के लिये पार्टी से बाहर कर दिया है, पार्टी के मीडिया प्रभारी कृष्णा सिंह कल्लू ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान के निर्देश पर केशव सिंह को पार्टी से बाहर किया गया है, उन पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप है, पार्टी सांसद पशुपति कुमार पारस ने पार्टी के अंदर टूट की खबरों को भ्रामक बताया है।

close