ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को पूर्व कप्तान ने खराब बल्लेबाजी के लिए लताड़ा


rick ponting

दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया की हार के बाद सीरिज 1-1 से बराबर हो चुकी है। मेलबर्न टेस्ट मैच हारने के बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम की आलोचना शुरू हो गयी है। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने टीम के प्रदर्शन पर नाराजगी व्यक्त की है। पांेटिंग ने कहा कि मौजूदा सीरीज में भारतीय गेंदबाजों का डटकर मुकाबला ऑस्ट्रेलियाई नहीं कर सके। भारतीयों ने षानदार गेंदबाजी की है। भारतीय गेंदबाजों का सामना करने में नाकाम रहने के लिए अपने देश के बल्लेबाजों की कड़ी आलोचना की। पोंटिंग ने कहा कि टीम को असफलता से बचने के लिए आउट होने के डर को दूर भगाना होगा। भारतीय गेंदबाज का डर ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी पर हावी रहा। भारत ने एडिलेड में शर्मनाक हार के बाद दूसरे टेस्ट मैच में 8 विकेट से जीत दर्ज करके शानदार वापसी की। भारत पहले टेस्ट की दूसरी पारी में अपने न्यूनतम स्कोर 36 रनों पर आउट हो गया था। पोंटिंग ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया ने एडिलेड 191 तथा यहां 195 और 200 रन बनाए। यह टेस्ट क्रिकेट मैच की बल्लेबाजी नहीं है। टेस्ट की बल्लेबाजी का औसत अच्छा होना चाहिए।

पोंटिंग ने कहा कि मेरी चिंता यह है कि उन्हें ये रन बनाने में बहुत समय लगा। यह मेरा मुख्य मुद्दा है। उन्होंने कहा कि उन्हें थोड़ा जज्बा दिखाना होगा। वे आउट होने से डर नहीं सकते। पिच पर लगातार बल्लेबाजी करना होगा। उन्हें निर्भीक होकर क्रीज पर उतरकर रन बनाने चाहिए और उन्हें ये रन 2.5 रन प्रति ओवर की दर से अधिक तेजी से बनाने होंगे। पोंटिंग ने कहा कि बल्लेबाजी का रन रेट कम होना ही ऑस्ट्रेलिया टीम के लिए घातक साबित हुआ।

कम औसत से रन बनाने वाली टीम मैच नहीं जीत सकती। दिग्गज बल्लेबाज ने कहा कि उन्होंने एडिलेड और में 2.5 रन प्रति ओवर की दर से रन बनाए। उन्होंने भारत के खिलाफ पिछली सीरीज में भी ऐसा किया था और तब उन्हें हार मिली थी। मुझे लगता है कि उन्हें खेलने के अपने तरीके पर गौर करने की जरूरत है। जीतने के लिए अच्छे रन औसत से बल्लेबाजी करनी होगी।

close