कांग्रेस का ट्वीट- मोदी को ललकारते शिवराज, जीतू बोले- आखिर किस पर भरोसा करें किसान?


ग्वालियर, अतुल सक्सेना।
 खुद को जनता का सेवक कहने वाले मध्यप्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar)ने आज एक बार फिर अपनी सरलता का परिचय दिया। वे लुटेरों (Robbers)से भिड़ने वाली साहसी महिला का सम्मान करने पहुंचे थे। उन्होंने महिला को सम्मानित करने से पहले उनके पैरों में अपना सिर रखा और कहा कि हमें आप पर गर्व हैं। ऊर्जा मंत्री ने साहसी महिला को अपनी तरफ से 11,000 रुपये भी देने कि घोषणा की और कहा कि मैं आपका नाम वीरता पुरस्कार के लिए भी भेजूंगा।

रविवार को सिंध विहार कालोनी ( Sindh Vihar Colony) के कमेटी हॉल में एक सम्मान समारोह आयोजित किया गया। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर कार्यक्रम के मुख्यअतिथि थे। उन्होंने पिछले दिनों लूट के इरादे से घर में घुसे हथियारबंद बदमाशों से भिड़ने वाली अधेड़ महिला प्रिया खटवानी (Priya Khatwani)और लुटेरों को सड़क पर पकड़ने में मदद करने वाले व्यापारी राजीव चड्ढा और अभिषेक चड्ढा को शॉल श्रीफल देकर समानित किया। इस मौके पर इंदरगंज थाना टी आई शैलेंद्र भार्गव को भी सम्मानित किया गया।

हथियार बंद लुटेरों से भिड़ने वाली 48 वर्षीय साहसी महिला प्रिया खटवानी को सम्मानित करने से पहले ऊर्जा मंत्री अचानक घुटनों के बल बैठे गए और उन्होंने महिला के पैरों में अपना सिर रख दिया। हाथ जोड़कर मंत्री ने महिला को प्रणाम किया और कहा हमें आप पर गर्व है। फिर उन्होंने शॉल श्रीफल देकर उन्हें सम्मानित किया। मंत्री ने इस मौके पर महिला को 11,000 रुपये की नगद राशि देने की भी घोषणा की। इसी के साथ ऊर्जा मंत्री ने कहा कि वे प्रिया खटवानी का नाम वीरता पुरस्कार के लिए भी भेजेंगे।

गौरतलब है कि शहर की पॉश कॉलोनी सिंध विहार में बीते बुधवार की रात दो हथियारबंद लुटेरे कपड़ा व्यापारी विनोद खटवानी के घर में कुरियर बॉय बनकर लूट के इरादे से घुस गए। गार्ड ने रोका तो उन्होंने विनोद खटवानी के घर का कुरियर बताया जिसपर गार्ड ने उन्हें जाने दिया। लुटेरों ने घर में अकेली मिली विनोद की 48 वर्षीय पत्नी प्रिया पर कट्टा तान दिया और घर से जेवर और पैसा लाने के लिए कहा। लेकिन प्रिया लुटेरों पर हावी हो गई और उन्होंने लुटेरों पर हमला कर दिया। शोर सुनकर सड़क पर अपने जर्मन शेफर्ड को घुमा रहा प्रिया का बेटा घर पर आ गया उसने अपना डॉग लुटेरों पर छोड़ दिया। डॉग देखकर लुटेरे भाग गए और जाते जाते उनका मोबाइल छीन कर भाग गए। लुटेरे नीचे आकर एक ऑटो में चढ़कर भागे, उनके पीछे प्रिया का बेटा भागा, भीड़ में जब ऑटो धीमा हुआ तो बेटे ने एक लुटेरे को खींच लिया। ये सब देखकर इंदर गंज चौराहे पर व्यापारी मित्रों के साथ खड़े चाचा जनरल स्टोर के संचालक राजीव चड्ढा और अभिषेक चड्ढा भी लुटेरों को पकड़ने के दौड़े और सब ने मिलकर लुटेरों को दबोच लिया और कट्टा छीन लिया। शोर सुनकर चौराहे के पास मौजूद थाने का स्टाफ आ गया और लुटेरोंरंजीत बाल्मीकि और विजय यादव को पकड़कर पुलिस के हवाले का दिया।महिला प्रिया खटवानी और व्यापारी राजीव चड्ढा एवं अभिषेक चड्ढा के साहस की चर्चा इस समय शहर में हो रही है कई व्यापारिक और समाजिक संगठन उन्हें सम्मानित कर चुके हैं। सांसद विवेक शेजवलकर भी अपनी तरफ से प्रिया खटवानी को 5,000 रुपये के नगद पुरस्कार दे चुके हैं।

close