जानिए इस अनोखे देश के बारे में जहां 1 साल में होते हैं 13 महीने, यहां अभी भी साल 2014 ही चल रहा है

  

ethi

एक  तरफ जहां  पूरी दुनिया में 2021 की शुरुआत हो चुकी है  , वहीं दूसरी तरफ दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहां 2014 अभी भी चल रहा है। अफ्रीकी देश इथियोपिया का कैलेंडर दुनिया से 7 से 8 साल पीछे है। यह देश कई मामलों में दुनिया से एक कदम आगे है, जैसे कि साल के 13 महीने, 13 महीने नहीं। आइए हम आपको बताते हैं कि यह देश साल और समय के मामले में दुनिया से इतना अलग क्यों है।

इथियोपियाई कैलेंडर 8 साल पहले

8.5 मिलियन से अधिक की आबादी के साथ, इथियोपिया, अफ्रीका के दूसरे सबसे अमीर देश के रूप में जाना जाता है, इसका अपना कैलेंडर ग्रेगोरियन कैलेंडर के साढ़े आठ साल पीछे है। यहां नया साल 1 जनवरी के बजाय हर 13 महीने में 11 सितंबर को मनाया जाता है।

इस कैलेंडर को इथियोपिया के लोग मानते हैं

वास्तव में ग्रेगोरियन कैलेंडर 1582 में शुरू हुआ था। उससे  पहले जूलियन कैलेंडर का उपयोग किया गया था। कैथोलिक चर्च को मानने वाले देशों ने इस नए कैलेंडर को अपनाया है। जबकि कई देश इसका विरोध कर रहे थे। इथियोपिया उनमें से एक था।

क्या कारण है

इथियोपिया में, रोमन चर्च की छवि बनी रही। अर्थात्, इथियोपियाई रूढ़िवादी चर्च यह मानता रहा कि ईसा मसीह का जन्म 7 ईसा पूर्व में हुआ था और कैलेंडर की गणना उसी के अनुसार की जाने लगी। इसी समय, शेष दुनिया में ईसा मसीह के जन्म का 1 AD में उल्लेख किया गया है। यही कारण है कि 2014 का कैलेंडर अभी भी यहां चल रहा है। जबकि सभी देशों ने 2021 की शुरुआत कर दी है।

इथियोपिया में साल में 13 महीने

इथियोपियाई कैलेंडर में एक वर्ष में 13 महीने होते हैं। उसमें से 12 महीने में 30 दिन आते हैं। आखिरी महीने को पैग़म्ब कहा जाता है। जिसमें पांच या छह दिन आते हैं। इस महीने को वर्ष के उन दिनों को मनाने के लिए जोड़ा जाता है। जो किन्हीं कारणों से वर्षों में नहीं गिना जाता है।

पर्यटकों के लिए मुसीबत

इथियोपिया के लोग इस बात का ध्यान रखते हैं कि यह कैलेंडर और इसकी मान्यताएं पर्यटकों को कोई परेशानी न दें। हालांकि, इस कैलेंडर के कारण इथियोपिया के यात्रियों को होटल बुकिंग और अन्य बुनियादी सुविधाओं में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

इथियोपिया के लक्षण

इस देश की कई अन्य विशेषताएं भी हैं। जैसे, इथियोपिया में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में शामिल साइटों की संख्या सबसे अधिक है। दुनिया की सबसे गहरी और सबसे लंबी गुफा की तरह, दुनिया की सबसे गर्म जगहों में से एक और प्राकृतिक सुंदरता का खजाना। यही वजह है कि दुनिया भर से पर्यटक यहां आते हैं। 11 सितंबर को मनाया जाने वाला नया साल भी यहां आकर्षण का केंद्र होता है।

source- newztezz.com

close