रात के 10 बजते ही यहां लगती है लड़कों की बोली..अमीर घर की औरतें करती है इनकी खरीदारी

 


आज हम आपको अपनी इस खास रिपोर्ट में जिस हकीकत के बारे में बताने जा रहे हैं, उसके बारे में जानकर आपको हैरत होगी। हो सकता है कि आपको यकीन भी न हो लेकिन यह वो हकीकत है, जिसके साए में राजधानी दिल्ली अपना ठिकाने बनाए हुई है। जी हां..राजधानी दिल्ली की कुछ गलियां ऐसी भी है, जहां रात 10 बजते ही लड़कियों का नहीं बल्कि लड़कों का जाना दुश्वार हो जाता है। इन गलियों में लड़कियों की नहीं बल्कि लड़कों की खरीदारी होती है। पूरा मैला सजता है इनका। एक से बढकर एक लड़के होते हैं, जिनकी खरीदारी के लिए  अमीर घरों की औरतें आती है।  वैसे  तो यह पूरा व्यापार अवैध माना जाता है, लेकिन राजधानी दिल्ली के कुछ इलाके ऐसेे हैं, जहां इनकी खरीदारी खुलेआम होती है। अमीर घर की औरतें इनकी खरीदारी करती है। यह सबकुछ पूरे सिस्टमेटिक तरीके से होता है। अलग-अलग लड़कों की  अलग-अलग कीमतें तय होती हैं।

‘जिगोले’ कहते हैं इन्हें

यहां हम आपको बताते चले कि इन लड़कों को जिगोले कहते हैं। इन लडकोंं का काम होता है कि  अमीर घर की ओरतों को शारीरिक तौर पर खुश करें। किस जिगोले की कीमत कितनी है। यह उसके गले पर बंधे रूमाल से मालूम पड़ता है। जिसका रूमाल जितना लंबा होता है। उसकी कीमत उतनी ही अधिक होती है। रात को 10 बजने के बाद अमीर घर की महिलाएं यहां आकर इनकी खरीदारी करती है।  कई मौके पर इन लड़कों को मुंहमांगी कीमत भी दी जाती है।

दिल्ली के इन इलाकों में होता है व्यापार

वैसे तो मर्दों का देह व्यापार पूरे देश में फैला हुआ है, लेकिन दिल्ली के कुछ इलाके ऐसे हैं, जहं खुलेआम इनका कारोबार किया जाता है। जहां खुलेआम मर्दों की खरीद ब्रिकी होती है। कुछ घंटों के  लिए मर्दों की कीमत 1800 रूपए से लेकर 3 हजार रूपए तक की है।  वहीं पूरी रात के लिए मर्दों  का रेट 8000 रूपए से लेकर 10, 000 रूपए तक तय है।   इन जिगोलो की सबसे ज्यादा खरीदारी लाजपत  नगर , पालिका मार्केट और कमला नगर में की जाती है। यहां इनकी खरीदारी जोरो पर होती है। इस काम में सबसे ज्यादा लड़के पढ़े लिखे होते हैं। कुछ लड़के इसे मजे के लिए करते हैं, तो कुछ  लड़के मजबूरी में करते हैं। 

close