दुनियाभर के अजब-गजब केस: 19 साल की लड़की ने संबंध बनाने के से किया मना तो 77 साल के बूढ़े ने कर दिया केस


एक इंसान मुकदमा क्यों दायर करता है? आप कहेंगे ये कैसे सवाल है... मुकदमा इंसाफ के लिए दायर किया जाता है ताकि बेकसूर शख्स को इंसाफ मिल सके और कसूरवार को सजा। लेकिन आज के समय में जुर्म इतना बढ़ गया है कि रोजाना हजारों मामले कोर्ट की फाइलों आते हैं और कई मामले तो इन फाइलों में दबे के दबे रह जाते हैं। बेकसूर इंसाफ की आस में सालों निकाल देता है और कसूरवार सालों ऐश की जिंदगी जी लेता है। इन सब की वजह है... कोर्ट रूम में रोजाना हजारों की संख्या में आने वाले मुकदमें... कुछ जरूरी होते हैं तो कुछ गैर जरूरी।

आज हम आपको ऐसे ही कुछ गैर-जरूरी मुकदमों के बारे में बताने जा रहे हैं जो इतने अजीबोगरीब हैं कि सुनकर आपकी हंसी छूट जाएगी और लगेगा कि दुनिया में कैसे-कैसे लोग होते हैं जिनके पास इतना फालतू समय है कि वह ऐसे केस फाइल करके जरूरत मंदों को दिलवाते हैं तो केवल.... तारीख पर तारीख... तारीख पर तारीख!

पहला केस-

पेशे से सर्जन डॉर रिचर्स बतिस्ता की पत्नी की किडनी फेल हो गई थी, जिस वजह से उसकी जान बचाने के लिए उन्होंने अपनी किडनी पत्नी को डोनेट कर दी। लेकिन कुछ सालों पर बाद दोनों का तलाक हो गया... तलाक के बाद रिचर्ड ने अपनी पत्नी पर केस कर दिया और उनसे अपनी किडनी वापस मांगने की मांग करने लगा। मतलब हद है भई!

दूसरा केस

77 साल का एक जर्मन एक्टर रॉल्फ ईडन ने एक 19 साल की लड़की के खिलाफ केस फाइल करवाया था। लड़की से उन्हें दिक्कत ये थी कि जब उन्होंने उससे शारीरिक संबंध बनाने की डिमांड की तो लड़की ने यह कहते हुए मना कर दिया कि वे बेहद ही बुढ़े हैं। रॉल्फ को यह अपना अपमान लगा और उन्होंने इस बात पर आपत्ति जताते हुए लड़की के खिलाफ केस फाइल कर दिया।

तीसरा केस-

न्ययॉर्क के एक दुकानदार ने अपनी दुकान के बाहर रहने वाले 3 बेघर लोगों पर केस कर दिया। उन्हें समस्या ये थी कि वो लोग उनकी दुकान में आने वाले लोगों को देखते रहते थे।

चौथा केस-

हद तो तब हो गई जब एक पति ने अपनी पत्नी पर यह कहते हुए मुकदमा कर दिया कि उसने बदसूरत बच्चों को जन्म दिया है।

close