मकर संक्रांति 2021: मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है? जानिए महत्व

 मकर-संक्रांति -1

मकर संक्रांति हिंदुओं का प्रमुख त्योहार है। पॉश महीने में जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है। यह तब है जब पर्व मनाया जाता है। इस वर्ष मकर संक्रांति 14 जनवरी को मनाई जाएगी। मकर संक्रांति से ऋतुओं का परिवर्तन भी होने लगता है। इस दिन को स्नान और दान जैसे कर्मों के लिए विशेष महत्व माना जाता है। मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी बनाने और खाने का भी विशेष महत्व है। यही कारण है कि इस त्योहार को कई स्थानों पर खिचड़ी उत्सव भी कहा जाता है।

पुत्र शनि से मिलने आता है

ऐसा माना जाता है कि सूर्य देव इस त्योहार पर अपने पुत्र शनि से मिलने आते हैं। यह बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि सूर्य और शनि इस पर्वत से संबंधित हैं। आमतौर पर शुक्र का उदय भी इसी समय के आसपास होता है। इसीलिए शुभ कर्म यहाँ से शुरू होते हैं। यदि कुंडली में सूर्य या शनि की स्थिति खराब हो जाती है, तो इस त्योहार पर एक विशेष प्रकार की पूजा के साथ इसे ठीक किया जा सकता है

मकर संक्रांति मुहूर्त

  • पुण्य काल मुहूर्त: सुबह 08:03:07 से 12:30:00 बजे तक
  • महापुण्य काल मुहूर्त: सुबह 08:03:07 से 08:27:07 तक

मकर के लिए आप क्या करते हैं?

इस दिन प्रात: काल स्नान करें, गमले में लाल फूल और अक्षत डालें और सूर्य को अर्घ्य दें  । श्रीमद भगवद गीता के एक अध्याय का पाठ करें या गीता का पाठ करें। नया भोजन, कंबल, तिल और घी का दान करें। भोजन में नए अन्न का मर्दन करें। भोजन को भगवान को समर्पित करें और इसे प्रसाद के रूप में लें। शाम को खाना खाया। इस दिन किसी गरीब व्यक्ति को बर्तन सहित तिल का दान करने से शनि से जुड़े हर कष्ट से मुक्ति मिलती है।

मकर संक्रांति का महत्व

मकर संक्रांति के त्योहार को उत्तरायण भी कहा जाता है। मकर संक्राति के दिन गंगा स्नान, व्रत, कथा, दान और भगवान सूर्यदेव की पूजा का विशेष महत्व है। इस दिन किया गया दान निर्विवाद रूप से फलदायी होता है। इस दिन शनि का प्रकाश दान करना भी बहुत शुभ माना जाता है। पंजाब, यूपी, बिहार और तमिलनाडु में इस समय फसल काटने के लिए कई नई फसलें हैं। इसलिए किसान भी इस दिन को धन्यवाद के रूप में मनाते हैं। इस दिन तिल और गुड़ से बनी मिठाइयां बांटी जाती हैं। इसके अलावा, मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने की भी परंपरा है।

source- newztezz.com

close