72 साल बाद फिर हुआ चमत्कार, नटराजन और सुंदर ने किया टेस्ट क्रिकेट में कमाल


sunder

दिल्ली। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले जा रहे टेस्ट मैच का दूसरा दिन भारतीय गेंदबाजों के नाम रहा। बॉर्डर-गावस्कर टेस्ट सीरीज का चैथा और आखिरी मैच ब्रिसबेन के गाबा मैदान पर ऑस्ट्रेलिया आउट हो चुकी है। इस मैच के दूसरे दिन ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी 369 रनों पर सिमट गयी। भारत की ओर से शार्दुल ठाकुर ने 94 रन देकर तीन विकेट लिए जबकि पहला टेस्ट खेल रहे वाॅशिंगटन सुंदर ने 89 और टी नटराजन ने 78 रन देकर तीन-तीन विकेट हासिल किये। लंच से पहले ऑस्ट्रेलिया ने 95 रन के भीतर पांच विकेट गंवा दिए। नटराजन के कंगारू टीम के आखिरी बल्लेबाज जोश हेजलवुड को क्लीन बोल्ड आउट किया। इस विकेट के साथ ही वाॅशिंगटन सुंदर ने एक खास रिकॉर्ड को अपने नाम कर लिया। नटराजन और सुंदर अब एक ही टेस्ट पारी में तीन विकेट लेने के क्लब में शामिल हो गए हैं।

खास बात यह है कि दोनों खिलाड़ियों ने यह कारनामा अपने करियर के पहले ही मैच में हासिल कर लिया। ऐसा भारतीय क्रिकेट के इतिहास में 72 साल बाद हुआ है। इससे पहले टीम इंडिया के लिए दो गेंदबाजों ने अपने डेब्यू टेस्ट में तीन-तीन विकेट 1949 में लिए थे। उस दौरान कोलकाता टेस्ट में वेस्टइंडीज के खिलाफ मंटू बनर्जी और गुलाम अहमद ने टेस्ट डेब्यू करते हुए 3-3 विकेट चटकाए थे।

ज्ञात हो कि 1949 के बाद फिर भारतीय बल्लेबाजों ने रिकार्ड बनाया। अपने प्रमुख खिलाड़ियों की चोटों से जूझ रही भारतीय टीम के इन गेंदबाजों का प्रदर्शन इसलिए भी काबिले-तारीफ है। नये गेंदबाजों के पास टेस्ट क्रिकेट का अनुभव नहीं है और सामने ऑस्ट्रेलिया जैसा मजबूत टीम है।

पांच मुख्य गेंदबाजों के चोट के कारण नहीं खेल पाने से भारत को नेट बॉलर नटराजन और वाॅशिंगटन सुंदर को इस मैच में उतारना पड़ा। टेस्ट सीरीज इस समय 1-1 से बराबरी पर चल रही है और जो भी इस मैच में जीत हासिल करेगा, वो सीरीज भी जीत जाएगा। भारतीय टीम टेस्ट और सीरीज जीतने का प्रयास कर रही है।

close