ऐसे करें शनिदेव की पूजा और व्रत, बन जाएंगे सारे बिगड़े काम

  

Shanidev

शनिवार का दिन भगवान शनिदेव का होता है। इस दिन शनिदेव की पूजा करने से व्यक्ति के सभी कष्ट दूर हो जाते है। जिन लोगों पर शनि की साढ़ेसाती चल रही होती है वह भी समाप्त हो जाती है। ऐसी मान्यता है कि शनिदोष से मुक्ति के लिए मूल नक्षत्रयुक्त शनिवार से शुरू करके सात शनिवार तक शनिदेव की पूजा करने के साथ साथ व्रत रखना चाहिए। शनिदेव की पूजा और व्रत करने से शनिदेव की कृपा होती है और सभी दुख खत्म हो जाते हैं। वहीं यदि शनिदेव नाराज हो जाते हैं तो व्यक्ति पर कई प्रकार के संकट आ जाते हैं। शनिवार के दिन आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।

1. व्रत के लिए शनिवार को सुबह उठकर स्नान करना चाहिए। उसके बाद हनुमान जी और शनिदेव की पूजा करते हुए तिल, लौंगयुक्त जल को पीपल के पेड़ पर चढ़ाना चाहिए।

2. शनिवार के दिन काले वस्त्रों और काली वस्तुओं को किसी गरीब को दान में जरूर देना चाहिए। क्योंकि काला वस्त्र शनिदेव का अतिप्रिय है।

3. शनिदेव की पूजा के दौरान तांबे का बर्तनों का प्रयोग न करें। क्योंकि तांबा सूर्य का धातु होता है और शनिदेव की सूर्य से शत्रुता है।

4. शनि की पूजा में लाल रंग का की कोई भी चीज न चढ़ाएं। इसका कारण यह है कि लाल रंग और इससे संबंधित चीजें मंगल ग्रह से संबंधित हैं। मंगल ग्रह भी शनि का शत्रु माना जाता है।

5. शनिवार को शनिदेव को काले तिल और काली उड़द जरूर चढ़ाएं।

6. शनिदेव की पूजा में यह बात भी ध्‍यान रखें कि पूजा करते समय साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखा जाना चाहिए।

close