बर्ड फ्लू की दहशत, अंडे-चिकन की खपत हुई आधी


लखनऊः यूपी में अचानक अंडे की खपत आधी हो गई है. वहीं चिकन का कारोबार भी घटकर आधे से कम हो गया है. बर्ड फ्लू की दहशत ने लखनऊ के 25 हजार चिकन कारोबारियों को मुश्किल में डाल दिया है.

अंडे और चिकन के दामों में भारी गिरावट  

सर्दी में चिकन, अंडे की बिक्री बढ़ जाती है, लेकिन बर्ड फ्लू की सूचना ने दहशत पैदा कर दी है. इस वजह से चिकन, अंडे की बिक्री में भारी कमी आई है. मांग कम होने की वजह से दाम भी प्रभावित हुए हैं. लखनऊ मंडल में करीब 45 पोल्ट्री फार्म है. रोजाना करीब 4.75 लाख अंडों का उत्पादन होता है. अंडा कारोबारियों के अनुसार, लखनऊ में रोजाना 2.50 लाख अंडों की खपत होती है, लेकिन बर्ड फ्लू की वजह से पिछले 24 घंटे में घटकर करीब 1.35 लाख हो गई है.  

चिकन के दाम में हो सकती है 100 रुपये प्रति किलो की कमी

चिकन कारोबारी और पोल्ट्री फार्म संचालक मो. कय्यूम ने बताया कि एक जनवरी तक थोक बाजार में जिंदा मुर्गे की कीमत 106 रुपये प्रतिकिलो थी. अब 65-68 रुपये प्रतिकिलो है. बर्ड फ्लू की दहशत अगर लम्बे समय चली तो दाम 50 रुपये प्रतिकिलो तक गिर जाएंगे. फुटकर बाजार में 180 रुपये प्रति किलो से घटकर 120 रुपये प्रतिकिलो हो गया है. ऐसे हाल रहे तो दाम 100 रुपये प्रति किलो तक गिर जाऐंगे.

मथुराः देश में बढ़ते बर्ड फ्लू के प्रकोप को लेकर जनपद के पंडित दीनदयाल उपाध्याय पशु चिकित्सालय विज्ञान विश्वविद्यालय प्रशासन ने किसानों के लिए एडवाइजरी जारी की है. एडवाइजरी जारी करते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने कहा कि किसी को घबराने की जरूरत नहीं. सर्दी के मौसम में यह वायरस पनपता है. देश के चार राज्यों में पक्षियों की आकस्मिक मौत हुई है. उसको लेकर किसान अपनी जैविक सुरक्षा उपकरणों को दुरुस्त करें.

वेटनरी ने किसानों को एडवाइजरी जारी की
केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में पक्षियों की आकस्मिक मौत को लेकर बर्ड फ्लू वायरस फैलने की आशंका लगाई जा रही है. जनपद के पंडित दीनदयाल उपाध्याय पशु चिकित्सालय विज्ञान विश्वविद्यालय प्रशासन ने किसानों को गाइडलाइंस जारी कर दी है. मुर्गी पालन और किसान भाई अपनी जैविक सुरक्षा उपकरणों को दुरुस्त रखें किसी को घबराने की जरूरत नहीं.

केंद्र और राज्य सरकार ने वायरस को लेकर अलर्ट किया है
केंद्र और प्रदेश सरकार ने बर्ड फ्लू वायरस को लेकर पहले ही निर्देश जारी कर दिए थे. वहीं वेटरनरी कॉलेज ने पशु पालक और किसान भाइयों को एडवाइजरी जारी की है. एडवायजरी में कहा गया है कि पशु पालक जैविक सुरक्षा उपकरणों को ठीक प्रकार से रखें और बाहर से आने वाले व्यक्ति या सामग्री को ठीक प्रकार से सैनिटाइज करें.

close