कोर्ट ने तांडव टीम को दिया झटका, कहा- अभिनेता होने का ये मतलब नहीं…

 

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट से वेब सीरीज तांडव के निर्माताओं को बड़ा झटका लगा है। निर्माताओं ने अपनी गिरफ्तारी को रोकने के लिए एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में डाली थी, जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाने से इंकार करते हुए कहा है कि, इस राहत के लिए उच्च न्यायालय जाएं। देश के अलग-अलग शहरों में तांडव टीम के खिलाफ दर्ज मामलों को भी आपस में जोड़ने के लिए कोर्ट ने नोटिस जारी कर दिया है। वेब सीरीज तांडव को लेकर विवाद गहराता जा रहा है। देश के अलग-अलग राज्यों में फिल्म का विरोध जारी है। यही वजह है कि, देश के अलग-अलग राज्यों में लगातार मामले दर्ज किये जा रहे हैं।

बढ़ते हुए विवाद और गिरफ़्तारी के डर से अमेजन प्राइम इंडिया की प्रमुख अपर्णा पुरोहित, सीरीज के लेखक गौरव सोलंकी, एक्टर जीशान अयूब और निर्माता निर्माता हिमांशु कृष्ण मेहरा ने देश की सबसे बड़ी अदालत में अग्रिम जमानत के लिए याचिका दी थी। बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में वेब सीरीज तांडव के निर्माताओं और अभिनेता जीशान अयूब की याचिका पर सुनवाई हुई। इस याचिका में मांग की गई थी कि, देश भर में उनके खिलाफ दर्ज FIR को निरस्त कर दिया जाये।

कोर्ट ने इस याचिका पर कहा है कि, उन्हें राहत पाने के लिए हाई कोर्ट जाना चाहिए। वहीं मामले पर फैसला होगा। तांडव टीम के खिलाफ देश भर में दर्ज हुई FIR पर कोर्ट ने नोटिस जारी किया है। कोर्ट में वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने दलित दी है कि, मैं भी इस मामले में हूं। आर्टिकल 19A के लिए सुप्रीम कोर्ट आया जा सकता है। उन्होंने कहा कि, मुंबई में देश भर की दर्ज FIR को ट्रांसफर कर दिया जाए।

देश में लोगों की भावना बात-बात पर होती है। अभिनेता जीशान अयूब से कोर्ट ने कहा है कि, आप अभिनेता है लेकिन आप ऐसा कोई किरदार नहीं निभा सकते हैं, जिससे दूसरों की भावनाएं आहत होती हों। दरअसल अभिनेता ने खुद को इस केस बचाने का प्रयास करते हुए कहा था कि, मैं तो एक अभिनेता हूं, मुझसे भूमिका निभाने के लिए संपर्क हुआ था।

close