कुछ किसान नेता नहीं चाहते विवाद का समाधान, बीकेयू अध्यक्ष नरेश टिकैत का बड़ा बयान!


naresh-tikait-800x582

मोदी सरकार के नये कृषि कानूनों की वापसी को लेकर देशभर के किसानों के आंदोलन का आज 46वां दिन है, केन्द्र सरकार तथा किसानों के बीच कई दौर की बातचीत हो चुकी है, हालांकि अभी तक समाधान नहीं निकला है, भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कुछ किसान नेताओं पर सवाल खड़े किये हैं, यूपी गेट पर जारी आंदोलन में पहुंचे टिकैत ने कहा कि कुछ किसान नेता ऐसे हैं, जो सरकार के साथ बातचीत को सफल नहीं होने दे रहे, बैठक में अगर सभी सरकार की बात से सहमत भी हों, तो भी दो-तीन नेता उससे असहमति जता देते हैं, टिकैत ने कहा कि इन नेताओं को चिन्हित कर समझाया जाएगा, या विचार विमर्श कर वार्ता कमेटी से बाहर किया जाएगा।

विवाद नहीं समाधान चाहिये
अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत करते हुए नरेश टिकैत ने कहा कि किसान विवाद नहीं समाधान चाहते हैं, 
naresh-tikait1
यही वजह है कि अपनी मांगों को कई बार ठुकराने के बावजूद वो सरकार के बुलावे पर हर बार वार्ता के लिये पहुंच रहे हैं, सरकार से बातचीत के लिये 40 किसानों की कमेटी बनाई गई है, इनमें से कुछ लगातार समाधान के बीच रोड़ा बन रहे हैं, पता चला चाहिये कि वो कौन लोग हैं।

कार्यकारिणी की आपातकालीन बैठक
बीकेयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत ने आगे कहा कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की आपातकालीन बैठक सोमवार को होगी, ये कहां होगी, 
kisan-1
इसका फैसला जल्द हो जाएगा, बैठक में यूपी गेट आंदोलन स्थल के अलावा सिंधु बॉर्डर टिकरी बॉर्डर के आंदोलनरत किसान नेता भी शामिल होंगे, जिसमें आंदोलन को लेकर तमाम महत्वपूर्ण मुद्दों के साथ ही अगली रणनीति तय की जाएगी।

सरकार के साथ गतिरोध बरकरार
किसान अभी तक अपनी जगह पर डटे हैं, सरकार ने किसान नेताओं से कई बार बातचीत की है, लेकिन कानूनों की वापसी को लेकर किसानों के कड़े रुख के चलते मसला हल नहीं हो पा रहा है, किसान ये भी चाहते हैं, 
Kisan-Andolan-2
कि सरकार किसी भी तरह की खरीद में न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी की गारंटी दें।



close