दिल्ली हिंसा: फेसबुक लाइव होकर दीप सिद्धू ने किसान नेताओं को किया आगाह- मैंने राज खोले तो भागने की राह नहीं मिलेगी


राजधानी दिल्ली में हुई गणतंत्र दिवस पर हिंसा के केस में आरोपी ठहराए जा रहे पंजाब के कलाकार दीप सिद्धू ने सोशल मीडिया पर लाइव होकर किसान नेताओं को खुली चेतावनी दी है। सिद्धू को बार बार गद्दार कहा जा रहा है जिसके कारण उन्होंने नाराज होकर किसान नेताओं को आगाह किया कि यदि उन्होंने अंदर की बातें खोलनी शुरू कर दी तो इन किसान नेताओं को भागने का रास्ता नहीं मिलेगा। यह कोई डायलॉग न समझें। ये बात याद रखना। मेरे पास हर बात की दलील है। मानसिकता बदलो।

उन्होंने ये बातें फेसबुक पर लाइव के दौरान कहीं। सोशल मीडिया पर लाइव होकर दीप सिद्धू ने कहा कि उनके बारे में कई बातें कही जा रही हैं। ऐसे में समय आ गया है कि कुछ बातें साफ़ कर दी जाएं। राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर लाल किले पर झंडा लगाने के मामले में दीप सिद्धू ने कहा कि युवाओं को दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च की बात कहकर बुलाया गया था। बाद में किसान नेताओं ने दिल्ली में तय रूट पर परेड की बात कह दी। जिसके बाद युवाओं ने इस बात पर गुस्सा जाहिर किया तो किसान नेता वहां से भाग गए।

साथ ही उन्होंने किसान नेताओं को अहंकारी बताया और कहा कि वे सरकार की भाषा बोलते हैं।उन्होंने किसानों से अपील की कि एकता बनाए रखें और 26 जनवरी की घटना को याद रखें। सिद्धू ने आगे कहा कि किसान नेताओं ने इस मामले में मोर्चा नहीं लिया। उन्होंने बार बार लाल किले पर झंडा लगाने की बात का बचाव किया। सिद्धू के बाइक पर भागने की वाले वायरल वीडियो पर उन्होंने कहा कि जिसकी पुष्टि नहीं है, उसे सच माना जा रहा है।

हिंसा को लेकर सिद्धू ने कहा कि कौन सी हिंसा की गई। हमने लाल किले में किसी प्रापर्टी को नुकसान नहीं पहुंचाया। तो वहीं दिल्ली पुलिस के बारे में सिद्धू ने कहा कि पुलिस ने हमें कहा कि जो करना है, शांतिपूर्वक करो और यहां से जाओ। साथ ही उन्होंने भाजपा और आरएसएस से रिश्तों पर कहा कि ये सब गलत है। जिसके बाद उन्होंने कांग्रेस से भी रिश्तों को नकार दिया।

close