‘हमें तुर्की-पाकिस्तान गठबंधन का मुकाबला करना चाहिए’, ग्रीस ने सैन्य सहयोग के लिए भारत से किया आग्रह

  


सही कहा है किसी ने, दोस्त वही जो संकट के समय काम आए। ग्रीस ने तुर्की के विरुद्ध पूर्वी भूमध्य सागर में घुसपैठ की, जिसमें अप्रत्यक्ष रूप से भारत ने ग्रीस का साथ दिया था। अब ग्रीस चाहता है कि तुर्की के विरुद्ध भारत उसका खुलेआम समर्थन करे, और बदले में वह आतंक के विरुद्ध भारत के अभियान में शामिल होगा, जिसका प्रमुख निशान तुर्की और पाकिस्तान का नापाक गठजोड़ है।

ईकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार एक webinar में ग्रीक राजनीतिज्ञों ने भारत के साथ मजबूत रक्षा संबंधों की ओर अपने कदम बढ़ाने की आशा जताई। रिपोर्ट के अंश अनुसार, “ग्रीक न्यूज पोर्टल Pentaspostagma के प्रमुख संपादक Andreas Mountzoroulias ने कहा कि ग्रीस और भारत के अपने कूटनीतिक संबंधों को और सशक्त बनाने का यह सही समय है। दोनों ही देशों के बगल में आतंक के समर्थक स्थित है – ग्रीस के बगल में तुर्की, और भारत के बगल में पाकिस्तान। ऐसे में इन दोनों के गठजोड़ का मुकाबला करने हेतु ग्रीस और भारत का एक होना अवश्यंभावी है”

ऐतिहासिक तौर पर ग्रीस और भारत के बीच में काफी गहरे संबंध रहे हैं, लेकिन स्वतंत्र भारत ग्रीस से उतना निकट नहीं हो पाया है। लेकिन अब समय की मांग है कि दोनों देश अपने कूटनीतिक और सैन्य संबंधों में अधिक निकटता लाए। जैसा कि ग्रीक संपादक ने कहा, ग्रीस तुर्की की हेकड़ी से उतना ही त्रस्त है, जितना कि भारत पाकिस्तान की हेकड़ी से।

ऐतिहासिक तौर पर ग्रीस और भारत के बीच में काफी गहरे संबंध रहे हैं, लेकिन स्वतंत्र भारत ग्रीस से उतना निकट नहीं हो पाया है। लेकिन अब समय की मांग है कि दोनों देश अपने कूटनीतिक और सैन्य संबंधों में अधिक निकटता लाए। जैसा कि ग्रीक संपादक ने कहा, ग्रीस तुर्की की हेकड़ी से उतना ही त्रस्त है, जितना कि भारत पाकिस्तान की हेकड़ी से।

source

close