पीएम मोदी की तस्वीरों के साथ प्रदर्शन कर रहे लोगों ने की अलग देश की मांग

  

नई दिल्ली। प्रदर्शनों को लेकर न सिर्फ भारत अशांत है बल्कि पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान भी परेशान है। फर्क सिर्फ इतना है भारत में कुछ पीएम मोदी के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं वहीं पाकिस्तान में कुछ लोगों को मोदी से बड़ी उम्मीद नजर आ रही है। पाकिस्तान के सिंध प्रांत में बगावत की आवाज अब मुखर हो रही है। यहां बीते दिनों कई स्थानीय राजनीतिक पार्टियों ने रैली निकालकर सिंध को अलग देश बनाने की मांग की है। इन प्रदर्शनकारियों ने इसके लिए जो रैली निकाली है, उसमें उन्होंने कई विदेशी नेताओं की तस्वीरें अपने हाथ में थाम रखी है। ये प्रदर्शनकारी इन नेताओं से मांग कर रहे हैं कि वह उनके आंदोलन में मदद करें। प्रदर्शनकारी सिंध प्रांत को पाकिस्तान से अलग करके नया देश बनाने की मांग कर रहे हैं।

सिंध प्रांत के लोग जीएम सैयद को सिंधी राष्ट्रवाद का चेहरा मानते हैं। इन लोगों ने अपने नेता की 117वीं जयंती पर प्रदर्शन करते हुए सिंध को अलग देश बनाने की मांग की। गौरतलब है जीएम सैयद को सिंध प्रांत का संस्थापक भी माना जाता है। प्रदर्शनकारियों ने पाकिस्तान पर वहां के लोगों को प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पाकिस्तान सरकार यहां केवल व्यापार कर रही है। मजे की बात यह है प्रदर्शनकारियों ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर के साथ प्रदर्शन कर रहे थे। उन्हें भारत के प्रधानमंत्री से काफी उम्मीदें हैं।

बताते चलें कि अपने नेता की जयंती के मौके पर यहां के लोगों ने विशाल रैली निकालकर सिंध को अलग देश बनाने के लिए अपनी आवाज बुलंद की। इन लोगों का कहना है कि हमारी सभ्यता सिंधु घाटी सभ्यता और वैदिक धर्म का घर है। इन लोगों ने आरोप लगाया था कि ब्रिटिश सरकार ने हमारी जमीनों पर कब्जा कर लिया था और बाद में 1947 में बंटवारे के बाद उन्होंने हमें इस्लामी देश पाकिस्तान को सौंप दिया। लेकिन अब सिंध के कई स्वतंत्र दल यहां एक स्वतंत्र सिंध देश की पैरवी करते हैं। वह इस मुद्दे को अंतराष्ट्रीय स्तर पर भी उठाते रहते हैं, जिससे उनकी मांग को दुनिया का समर्थन मिल सके।

close