धरे रह गये किसान नेताओं के दावे! उत्पातियों ने जमकर मचाया उत्पात, पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले, वीडियो

  

धरे रह गये किसान नेताओं के दावे! उत्पातियों ने जमकर मचाया उत्पात, पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले, वीडियो

कृषि कानूनों के विरोध में गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली निकालने के ऐलान के साथ ही किसान नेताओं ने तमाम दावे किये थे, हालांकि मंगलवार को ट्रैक्टर परेड निकालने के दौरान कुछ लोगों ने अक्षरधाम मंदिर के पास तलवारें लहराई, पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की, तो उनसे भी भिड़ गये, ट्रैक्टर परेड में शामिल किसानों ने अक्षरधाम तथा नोएडा मोड़ के पास बैरिकेड तथा सीमेंटेड बैरियर्स को तोड़ने की कोशिश की, तो पुलिस को लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोलों छोड़कर उन्हें नियंत्रण में करना पड़ा, इससे पहले किसान नेता दर्शन पाल, योगेन्द्र .यादव, राकेश टिकैत आदि ने शांति पूर्ण प्रदर्शन का दावा किया था।

आंसू गैस के गोले
उत्तेजित प्रदर्शनकारी अपनी तलवारों के साथ पुलिस वालों की ओर भागने लगे, सीसीटीवी कैमरे में पुलिस तलवार लेकर किसानों को काबू में करने के लिये आंसू गैस के गोले छोड़ते साफ दिख रही है, 
इस बीच पुलिस ने गाजीपुर बॉर्डर के पास शाहदरा के चिंतामणि चौक पर प्रदर्शनकारी किसानों पर लाठीचार्ज किया, यहां पर भी किसान अपने ट्रैक्टरों के साथ बैरिकेड्स को तोड़ने की कोशिश की थी, उधर दिल्ली-नोएडा सीमा पर एक स्टंट के दौरान दो किसानों के साथ एक ट्रैक्टर पलट गया।

ट्रैक्टर मार्च
किसानों की यूनियनों ने दिल्ली पुलिस को आश्वासन दिया, कि उनकी ट्रैक्टर परेड आधिकारिक गणतंत्र दिवस के समापन के बाद ही शुरु होगी, 
लेकिन सिंधु बॉर्डर, टिकरी तथा गाजीपुर बॉर्डर पर कैंप लगाकर बैठे किसानों ने समय से पहले राष्ट्रीय राजधानी में मार्च करना शुरु कर दिया।

नियमों की धज्जियां
सूत्रों के अनुसार सुरक्षाकर्मियों ने किसानों को निर्धारित योजना का पालन करने के लिये मनाने की कोशिश की, लेकिन वो नहीं माने और जबरदस्त शहर में घुस गये, 
इससे झड़पें हुई, करनाल बाईपास और आईटीओ पर प्रदर्शनकारियों ने पुलिस बैरिकेडिंग तोड़ दी, उत्पातियों ने पुलिस वालों पर भी हमला किया, आईटीओ के पास एक पुलिस वाहन में तोड़फोड़ की गई, वीडियो देखने के लिये नीचे क्लिक करें

close