नहीं मान रहा पाकिस्तान..फिर देे डाला किसान आंदोलन पर ऐसा बयान

 

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कितने बेगरत इंसान हैं, इसका का अंदाजा तो आप महज इसी से लगा सकते हैं कि  इनका खुद का घर तो उजड़ा पड़ा है, और चले दूसरों के  घरों को संवारने।  इस तरह का कृत्य पाकिस्तान को शोभा नहीं देता है। इससे पहले भी कई मर्तबा उसे हमारी तरफ से समझाया जा चुका है कि बेहतर होगा कि वो भारत के आतंरिक मसलों पर हस्तक्षेप न करें मगर बावजूद इसके पाकिस्तान की इमरान खान सरकार कतई मानने को तैयार नहीं हो रही है । वे अपनी तरफ से लगातार उलजुलूल बयानबाजी कर रहे हैं। अब इसी बीच भारत में हुए किसानों के आंदोलन पर व गणतंत्र  दिवस पर हुई हिंसा को लेकर जिस तरह का बयान पाकिस्तान की तरफ से दिया गया है । उसकी जिनती  भत्सर्ना की जाए उतनी कम है। 

पाकिस्तान के संसदीय मामलों की  समिति ने एक बैठक के दौरान भारत में हुए के आंदोलन के संदर्भ में कहा कि हमारी सरकार यह सनिश्चित करे कि भारत में आरएसएस की अतिवादी विचारधारा जिस तरह से लोगों का नेतृत्व कर रही है। उसे अंतरराष्ट्रीय मंच पर बेनकाब किया जाए। पाकिस्तान की संसदीय समिति ने 26 जनवरी के बवाल को लेकर कहा कि जो  कुछ लाल किले की प्रचीर पर हुआ। वो भारत सरकार के लिए एक ब्लैक डे था। उसे आने वाली घटनाओं के लिए एक अंदेशे के रूप में लेना चाहिए। पाकिस्तान की तरफ से दिए बयान में कहा गया है कि हमारी संसदीय समिति भारत में सिखोंं  के  प्रदर्शन का समर्थन करती है। जिस तरह से किसानों ने लाल किले की प्राचीर पर अपना प्रतिरोध जताया है। उससे अब भारत सरकार को सतर्क  हो जाना चाहिए अऩ्यथा आगे चलकर इस तरह की विराट स्थिति पैदा हो सकती है। हमारी समिति  सिखों के साथ है।

इतना ही नहीं, पाकिस्तान के समिति ने  भारत में आंदोलनरत किसानों के मसले पर अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति से समर्थन का आह्वान किया है। समिति ने कहा कि भारत  में लगातार  धर्म विशेष के लोगों को उनेक धर्म की वजह से निशाना बनाया जा रहा  है। लिहाजा,   हमारी संवेदना ऐसे सभी लोगों के साथ है। हम चाहते हैं कि  भारत में लगातार मानवाधिकारों के उल्लंघन पर अंतरराष्ट्रीय मंच अपना  ध्यान केंद्रीत करें।  हालांकि , यह पहला मौका नहीं है बल्कि इससे पहले भी पाकिस्तान की तरफ से भारत में आंदोलित किसानों के संदर्भ में बयान जारी कर चुका है,  जबकि भारत भी उसकी कड़े शब्दों में निंदा करता हुआ आया है।

close