नेताओं-अफसरों पर आपत्तिजनक टिप्पणी करना पड़ेगा भारी, पुलिस लेगी सख्त एक्शन

 

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर अक्सर लोग सरकार, प्रशासन और अधिकारियों को लेकर अपनी प्रतिक्रिया देते हैं। कई लोग प्रतिक्रिया देते समय वक़्त आपत्तिजनक टिप्पणी तक करते हैं, जो अब करना उन्हें महंगा पड़ेगा। बिहार में सोशल मीडिया के इस्तेमाल को लेकर पुलिस प्रशासन अब सख्त हो गया है। इस संबंध में आर्थिक अपराध इकाई के ADG ने पत्र भी जारी किया है। इस पत्र में लिखा गया है कि, कई ऐसी सूचनाएं सामने आ रही है कि, सोशल मीडिया/इंटरनेट के माध्यम से सरकार, मंत्रीगण, सांसद, विधायक और सरकारी अधिकारियों के संबंध आपत्तिजनक, अभद्र और भ्रांतिपूर्ण टिप्पणियां की जाती हैं।

जो विधि के खिलाफ और गैरकानूनी है और ये साइबर क्राइम में भी आता है। इस तरह के मामले सामने आने पर इसकी सूचना कृपया आर्थिक अपराध इकाई, बिहार, पटना को दी जाए। इससे ऐसे मामलों के दोषियों के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई की जा सके। ADG का पत्र सामने आने के बाद राज्य में सियासत गर्म हो गई है। RJD प्रवक्ता शक्ति यादव ने सरकार पर आरोप लगाया है कि, विज्ञापनों के माध्यम से ही सरकार अपना एजेंडा चलवाती है और जो खबरें असली होती हैं, उन्हें दबाया जाता है।

सोशल मीडिया पर उन खबरों को रोक नहीं सकती है इसलिए सरकार उन पर अंकुश लगाने के लिए कार्रवाई करने की बात कर रहे है। सीएम नीतीश कुमार का मानसिक संतुलन बिगड़ गया है। JDU के प्रवक्ता राजीव रंजन का कहना है कि, सोशल मीडिया का दुरुपयोग जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों के खिलाफ हो रहा है, जिसमे अभद्र भाषा का प्रयोग हो रहा है। सरकार ने इसे रोकने के लिए जो कदम उठाया है उसकी सराहना होनी चाहिए।

close