सांसदों के कैंटीन की सब्सिडी बंद, मतलब आर्थिक तंगी से गुजर रहा देश : सपा सांसद


मुरादाबाद: देश मे नई संसद भवन बनाने का काम शुरू हो गया है. वहीं संसद में केंटीन में सांसदों को मिलने वाली सब्सिडी को भी बंद किया जा रहा है. इस पर सपा सांसद एसटी हसन ने कहा, "सरकार के इस फैसले से पता चलता है कि देश की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है. यह सरकार कहती कुछ है करती कुछ है. सांसदों के खर्चे में कोई कमी नही हो रही कैंटीन की सब्सिडी खत्म कर रहे है."

केंद्र सरकार एक तरफ देश मे नई संसदभवन बनाने के लिए लगभग दो हजार करोड़ खर्च करने जा रही है. वहीं देश की संसद भवन में सांसदों के लिए खाने पीने के लिए बनी कैंटीन में मिलने वाली सब्सिडी को केंद्र सरकार खत्म करने जा रही है. मुरादाबाद से सपा सांसद एसटी हसन ने संसद भवन की कैंटीन में खाने पर दी जाने वाली सब्सिडी खत्म करने के सवाल पर मोदी सरकार पर निशाना साधा है उन्होंने कहा "इससे साफ जाहिर होता है कि देश आर्थिक तंगी की तरफ जा रहा है. लोगों के खाने के दांत कुछ और होते हैं और दिखाने के कुछ और."

'हिंदुस्तान की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं'
सपा सांसद एसटी हसन ने कहा, "केंद्र सरकार संसद भवन की कैंटीन में मिलने वाली सब्सिडी को खत्म करने जा रही है, लेकिन मंत्रियों के खर्चो में कटौती नहीं कर रहे हैं. सांसदों के खाने पीने की चीजों में भी यह लोग कटौती कर रहे हैं. इससे यही जाहिर होता है कि देश आर्थिक तंगी से गुजर रहा है. केंद्र सरकार कुछ दिन बाद पब्लिक से यह कह देंगे कि एक वक्त का खाना खाना शुरू कर दो. इनका कोई भरोसा नहीं है. हमें सरकार एक इशारा दे रही है कि हिंदुस्तान के अंदर फाइनेंशियल क्राइसिस कितना बढ़ रहा है."

'सब्सिडी बंद करने से आर्थिक स्थिति सही हो जाएगी क्या'
एसटी हसन ने कहा, "देश की संसद भवन की कैंटीन में सांसदों के लिए सब्सिडी बंद करने से क्या देश की आर्थिक स्थिति पर कोई फर्क पड़ेगा. लेकिन यह दिखावा है. इसका इशारा अच्छी तरह सबको समझ भी आ गया है. यकीनन तौर पर हमारे देश के इतने बुरे हालात हो गए."

close