प्रतापगढ़ में युवकों ने गैंगेटिक डॉल्फिन को पीट-पीटकर मार डाला, तीन गिरफ्तार


प्रतापगढ़ : एक ओर जहां केंद्र की मोदी सरकार और राज्य सरकारें गैंगेटिक डॉल्फिन (Dolphin) के संरक्षण के लिए विभिन्न योजनाएं बनाकर जरूरी कदम उठा रही हैं. वहीं प्रतापगढ़ जिले में राष्ट्रीय जलीय प्रजाति घोषित की गई डॉल्फिन मछली की हत्या का वीडियो वायरल हुआ है.

इस वीडियो में कई युवक डॉल्फिन पर लाठी डंड़ों और धारदार हथियारों से हमला करते नजर आ रहे हैं. डॉल्फिन की हत्या का वीडियो वायरल होने के बाद हरकत में आई पुलिस ने तीन लोगों की गिरफ्तारी का दावा किया है. स्थानीय लोगों के अनुसार डॉल्फिन गंगा नदी से बह कर शारदा सहायक नहर में पहुंची थी. वायरल वीडियो में कुछ लोग डॉल्फिन को फालतू में मारने की बात कहते हुए भी सुनाई दे रहे हैं.

लुप्तप्राय प्रजाति की श्रेणी में हैं गैंगेटिक रिवर डॉल्फिन

दरअसल, यूपी के प्रतापगढ़ जिले में नवाबगंज इलाके के कोथरिया गांव के पास शारदा नहर में एक गैंगेटिक डॉल्फिन बहकर आ गई थी. जिसे गांव वालों ने बेरहमी से पीट-पीटकर मार डाला. नवाबगंज की शारदा सहायक नहर में डॉल्फिन को मारने की घटना में शिनाख्त करने के दो दिन बाद इलाके के सिपाही की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया था, मगर कोई कार्रवाई नहीं हुई. बता दें, डॉल्फिन की प्रजाति विलुप्त होने के कगार पर है इसीलिए इन्हें लुप्तप्राय प्रजाति की श्रेणी में रखा गया है. वन्यजीव कानून के तहत इसे मारना जुर्म है.

वीडियो वायरल होने के बाद हुई तीन लोगों की गिरफ्तारी
डॉल्फिन की बेदर्दी से हत्या के मामले में जब लाइव वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो, हड़कंप मच गया. प्रतापगढ़ पुलिस के मुताबिक, 31 दिसंबर की इस घटना में कार्रवाई करते हुए अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार करके जेल भेजा गया है. पुलिस का कहना है कि यह बड़ा अपराध है बाकी लोगों की भी जल्द गिरफ्तारी की जाएगी.

कहां-कहां पाई जाती हैं गैंगेटिक रिवर डॉल्फिन

गैंगेटिक रिवर डॉल्फिन भारत, नेपाल और बांग्लादेश की गंगा-ब्रह्मपुत्र-मेघना और कर्णफुली नदी में पाई जाती है. इसका वैज्ञानिक नाम प्लैटनिस्टा गैंगेटिक है, यह मीठे पानी की डॉल्फिन की एक प्रजाति है.

यहां देखी गई गैंगेटिक रिवर डॉल्फिन

भारत में इन डॉल्फिन को असम, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में गहरी नदी के किनारे देखा जाता है. उपलब्ध मूल्यांकन रिपोर्टों के अनुसार, भारतीय नदियों में करीब 3,700 गैंगेटिक रिवर डॉल्फिन हैं.

2010 में घोषित की गई राष्ट्रीय जलीय प्रजाति

नदी के डॉल्फिन को स्वस्थ नदी के पारिस्थितिक तंत्र के आदर्श पारिस्थितिक संकेतक के रूप माना जाता है. उन्हें नदियों की संरक्षण स्थिति की निगरानी के लिए प्रमुख प्रजाति माना जाता है. साल 2010 में उन्हें राष्ट्रीय जलीय प्रजाति घोषित किया गया था.

close