आंध्र प्रदेश की जगन मोहन रेड्डी सरकार के विरुद्ध हिन्दुओं ने भरी हुंकार, मंदिरों का अपमान अब और नहीं!


  • 29 दिसम्बर: रामतीर्थम मंदिर में भगवान राम की 400 साल पुरानी मूर्ति को नष्ट कर दिया गया
  • 1 जनवरी: सुब्रह्मण्यम स्वामी की मूर्ति को तोड़ा गया। 

4 दिन के अंदर 2 घटनाएं और 19 महीनों में 120 मंदिरों पर हमले, ये कोरे आंकड़े नहीं बल्कि आंध्र प्रदेश की सच्चाई है l

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी के शासन में प्रदेश हिंदू विरोधी गतिविधियों का केंद्र बन गया है। राज्य में एक के बाद एक मंदिर को नष्ट किया जा रहा है और ऐसा इसलिए भी है क्योंकि आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा हिंदू विरोधी तत्वों को मुख्यधारा में शामिल किया जा रहा है।हिंदुओं की राज्य में बहुमत होने के बावजूद, पिछले डेढ़ साल से दरकिनार कर दिए गए हैं और अब उनके धार्मिक स्थानों पर उपद्रवियों द्वारा घेराबंदी की जा रही है।

नवीनतम हिंदू-विरोधी गतिविधि में, आंध्र प्रदेश के विजयनगरम में रामतीर्थम मंदिर में भगवान राम की 400 साल पुरानी मूर्ति को नष्ट कर दिया गया है। हालाँकि, इस बार, राज्य में मंदिर की बर्बरता के खिलाफ हिंदुओं का गुस्सा फूटा है, और जगन सरकार के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हो रहा है।

हिंदू विरोधी तत्वों को Free Hand देने के लिए विपक्ष ने जगन मोहन रेड्डी पर हमला किया। “सरकार की उदासीनता के कारण मंदिरों पर हमले दैनिक घटना बन गए हैं। राज्य में न तो जनता और न ही मंदिर के अंदर के देवता सुरक्षित हैं।”

पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि, “अगर इस तरह के मामले में कड़ी कार्रवाई की जाती तो ऐसी घटना सामने नहीं आती। सरकार की जिम्मेदारी है कि वह सभी समुदायों की भावनाओं की रक्षा करे।”
लोकप्रिय अभिनेता से राजनेता बने पवन कल्याण और जन सेना के अध्यक्ष ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनाया जा रहा है लेकिन आंध्र में भगवान राम की मूर्ति ही तोड़ दी गई।

दूसरी ओर जगन मोहन रेड्डी ने इस घटना के बारे में बात करते हुए कहा कि, “मूर्तियों का अपमान अत्याचारपूर्ण है और इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। भगवान निश्चित रूप से उन लोगों को दंडित करेंगे जो मंदिरों और मूर्तियों के प्रति इस तरह की असंवेदनशीलता दिखाते हैं”

इससे पहले, पिछले कुछ हफ्तों में इसी तरह की कई अन्य घटनाएं हुई थीं। आंध्र प्रदेश में एक नंदी की मूर्ति को नष्ट कर दिया गया था; प्राचीन अंर्तवेदी लक्ष्मी नरसिम्हा मंदिर में खड़ी एक पुरानी विरासत रथ को जला हुआ पाया गया; राजमुंदरी जिले के भगवान विग्नेश्वरा मंदिर में सुब्रह्मण्यम स्वामी की मूर्ति को नष्ट कर दिया गया था। एक अनुमान के अनुसार, 19 महीने में जगन मोहन रेड्डी के शासनकाल में मंदिरों पर 120 हमले हुए।

ये हमले एक पूर्व निर्धारित योजना के अनुसार चल रहे थे। पीतमपुर में छह मंदिरों में 23 से अधिक मूर्तियों को तोड़ दिया गया।

आने वाले दिनों में आंध्र प्रदेश में बड़े पैमाने पर विरोध देखा जा सकता है क्योंकि राज्य भर के मंदिरों पर हमले हो रहे हैं और मूर्तियों को तोड़ा जा रहा है।
पिछले 19 महीनों में, जगन सरकार ने मसीहियों और मुसलमानों से किए गए लगभग हर वादे को पूरा किया है, लेकिन किसानों, मजदूरों और हिंदू आबादी के लिए किए उनके पास अभी तक देने के लिए कुछ खास नहीं हैं।

सरकार अपने घोषणापत्र में ईसाईयों से किए गए वादों को पूरा करने की तैयारी कर रही है, जैसे कि पादरी के लिए भूखंड और घर का निर्माण, और ईसाई लड़कियों की शादी के लिए 1 लाख रुपये की वित्तीय सहायता और ये सब अन्य समुदायों की कीमत पर किया जा रहा है।

राज्य के हिंदुओं ने अब विरोध शुरू कर दिया है और अगले कुछ महीनों में रेड्डी के नेतृत्व वाली आंध्र सरकार के खिलाफ एक बड़े पैमाने पर विरोध देखा जा सकता है।

source

close