आपके भाग्य को प्रभावित करते हैं कपड़े, भूल से भी न पहने इन रंगों के वस्त्र, उठाना पड़ सकता है नुकसान

 

व्यक्ति का भाग्य उसके कपड़ों से प्रभावित होता है। साफ़ सुथरे कपड़ों से उसके व्यक्तित्व पर असर पड़ता है। वो कपड़े उसके खुद के पहनने वाले हों या उसके घर के बेड पर बिछी चादर या फिर दरवाजों पर लगे पर्दे हों। इन सबका प्रभाव व्यक्ति के आत्मविश्वास पर भी दिखता है। किसी भी व्यक्ति करे बारे में उसके कपड़ों के रंग, कपडे पहनने के तरीके और कपड़ों की गुणवत्ता से जाना जा सकता है। इससे काफी हद तक जाना जा सकता है कि, वो व्यक्ति केस पेशे से जुड़ा हुआ है। वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra) में कपड़ों का महत्व बताया गया है।

  • फटे पुराने कपड़ों या बिस्तर पर बिछी चादर से घर में नकारात्मक ऊर्जा का निर्माण होता है और व्यक्ति की मानसिकता पर नकारात्मक असर देखने को मिलता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, अगर कुछ कपड़े फट गए हैं तो आप उन्हें सफाई के काम में भी उपयोग करें।
  • बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार को नए वस्त्र पहनना वास्तु शास्त्र में काफी शुभ माना गया है। कहा गया है कि, नए वस्त्र शनिवार के दिन पहनने से वो जल्दी फट जाते हैं।
  • विवाह के इच्छ़ुक युवक और युवतियों को काले रंग के कपड़ों का इस्तेमाल कम से कम करना चाहिए. जबकि गुलाबी, नारंगी और हल्के रंग के वस्त्र पहनना शुभ माना जाता है.
  • युवक और युवतियों को काले कपड़े नहीं पहनने चाहिए। इससे उनके विवाह में बाधा उत्पन्न होती है। उन्हें हल्के रंग के या फिर गुलाबी, नारंगी रंग के कपड़ें पहनने चाहिए। इन्हे शुभ माना गया है।
  • अगर आप में आत्मविश्वास की कमी है। नए लोगों से मिलने के दौरान घबरा जाते हैं तो आपको लाल रंग के कपड़े पहनने चाहिए। इससे व्यक्ति का उत्साह बढ़ाता है और उसकी इच्छाशक्ति प्रबल होती है।
  • यदि व्यक्ति के जीवन में प्रेरणा की कमी है तो पीला रंग के वस्त्र ज़्यादा पहनने चाहिए. इससे व्यक्ति चुनौती पसंद, प्रेरणा प्रदान करने वाले व सदा अपने कार्यों में लगे रहने वाले बनते हैं.
  • जिन व्यक्तियों के जीवन में प्रेरणा की कमी है, उन्हें पीले रंग का कपड़े पहनने चाहिए। इससे व्यक्ति चुनौती को पसंद करता है और उसका मन काम में लगा रहता है।
close