CISF जवान ने जीता अमित शाह का दिल, ट्वीट कर जताई बहादुर हीरो से मिलने की इच्छा

 

अमित शाह

अमित  शाह(Amit Shah) देश का एक जाना माना नाम है। बीते दिनों दिल्ली (Delhi)  के डाबड़ी मोड़ मेट्रो स्टेशन पर एक यात्री की जान बचाने के लिए सीआईएसएफ(CISF)  के जवान विकास ने अपनी सूझबूझ दिखाई और उसकी जान बचाई। सीआईएसएफ के जवान ने आम इंसानों के साथ ही केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के  दिल का दरवाजा भी खोल दिया है। इतना ही नहीं उन्होंने सीआईएसएफ(CISF) के महानिदेशक को सूचित करते हुए कहा है कि वह इस जवान से मिलना चाहते हैं।

शाह ने ट्वीट कर जताई मिलने की इच्छा

amit-shah1

शुक्रवार की सुबह केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर कहा कि ‘हमें मातृभूमि और मानवता की सेवा के प्रति उनकी अटूट प्रतिबद्धता के लिए हमारे सीएपीएफ कर्मियों पर गर्व है। डीजी CISF को सूचित किया है कि, मैं इस बहादुर और सतर्क जवान से मिलना चाहूंगा, जिन्होंने एक अनमोल जीवन बचाया।” शाह ने सीआईएसएफ के जवान की तारीफ भी की है।

शाह ने कहा कि अभी वीडियो देखा, मुझे हमारे सीएपीएफ जवानों पर गर्व है। जवान द्वारा मातृभूमि और इंसानियत की इस भावना को सलाम. सीआईएसएफ डीसी से बात की और जवान से मिलने की इच्छा व्यक्ति की, जिसने एक कीमती जान को बचाया

सूझबूझ से बचाई यात्री की जान 

अमित शाह 1ये घटना 18 जनवरी की है, जब अचानक एक यात्री सिक्योरिटी पॉइंट(Security Point)  के पास अचानक से बेहोश हो गया,  जिसके बाद वहां मौजूद सीआईएसएफ जवान ने देर न करते हुए पीड़ित को शुरुआती उपचार देना शुरु किया। इसके बाद ही  यात्री की हालत में सुधार आ गया। दिल्ली के डाबरी मोड़ मेट्रो स्टेशन पर एक शख्स सिक्योरिटी पॉइंट के पास बेहोश हो गया। यात्री मेट्रो सिस्टम में जाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन सिक्योरिटी पॉइंट पर पहुंचते ही वह अचानक बेहोश हो गया और जमीन पर गिर गया। यात्री को जमीन पर गिरता देख वहां खलबली मच गई। डाबरी मेट्रो स्टेशन  पर तैनात सीआईएसएफ के कांस्टेबल विकास बेहोश यात्री की मदद के लिए तुरंत आगे आए।

जमीन पर गिरने की वजह से शख्स के चेहरे पर चोट लग गई, लेकिन वह बेहोशी की हालत में था और ठीक से सांस भी नहीं ले पा रहा था। सीआईएसएफ के कांस्टेबल ने तुरंत ही SOP का पालन कर यात्री को कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन (CPR) देना शुरू किया, जिसके बाद यात्री को होश आया। इसके बाद तुरंत ही DMRP और एम्बुलेंस को बुलाया गया।  CISF और स्टेशन कंट्रोलर के शिफ्ट इंचार्ज तुरंत मौके पर पहुंचे और पीड़ित को मेडिकल हेल्प के लिए कहा, लेकिन शख्स ने अस्पताल जाने से इनकार कर दिया। इसके साथ ही उन्होंने अपनी जान बचाने के लिए CISF का धन्यवाद किया।

source

close