लापरवाहीः महाराष्ट्र में स्वास्थ विभाग की बड़ी गलती के कारण दांव पर लगी 12 बच्चों की जान


महाराष्‍ट्र (Maharashtra) के यवतमाल जगह में लापरवाही का एक बड़ा मामला समाने आया है, जिसके कारण 12 बच्चों की जान खतरे में पड़ने वाली है. महाराष्ट्र के यवतमाल के एक गांव में 12 बच्चों को पोलियो वैक्‍सीन (Polio Drop) की बूंदों के स्थान पर दो-दो बूंदें सैनिटाइजर (Sanitizer) के बूंदे पिला दी गई, जिसके बाद देखते ही देखते वहां 12 बच्चों की तबियत बिगड़ने लगी.

अस्पताल में कराया भर्ती

सैनिटाइजर पीने के बाद ही बच्चों की तबियत बिगड़ने लगी, बच्चों को उल्टियां शुरु हो गई, जिसके बाद सबको सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. जिलाधिकारी के सामने पूरा मामला रखा गया है। उन्होंने मामले की जांच के आदेश दिए हैं. बातचीत में उस जिले के एक अधिकारी ने बताया कि प्रभावित बच्चों को एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनकी हालत अब स्थिर है. आपकों बता दें कि इन सारे बच्चों की उम्र पांच साल से कम थी. बताया गया है कि तीन स्वास्थ्यकर्मियों के खिलाफ हुई इस भूल को लेकर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

अधिकारी ने बताया कि यह घटना कापसिकोपरी गांव में भानबोरा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर हुई जहां एक से पांच साल के बच्चों के लिए राष्ट्रीय पल्स पोलियो टीकाकरण कार्यक्रम चलाया जा रहा है. इसके अलावा यवतमाल जिला परिषद के सीईओ श्रीकृष्ण पंचाल ने कहा कि पांच साल से कम उम्र के 12 बच्चों को पोलियो की बूंदों की जगह पर सैनेटाइजर की दो बूंदें दे दी गई, इसके बाद ही बच्चों ने उल्टी और बेचैनी होने की बात की. देखभाल और ट्रीटमेंट के बाद सभी बच्चों की हालत स्थिर है और उन पर निगरानी रखी जा रही है. उन्होंने कहा कि आरंभिक सूचना के मुताबिक घटना के समय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर एक डॉक्टर, एक आंगनवाड़ी सेविका और एक आशा कार्यकर्ता मौजूद थीं. जांच शुरू की गयी है और तीनों स्वास्थ्यकर्मियों को निलंबित किया जाएगा.

close