बजट 2021 पर कांग्रेस ने उठाए सवाल, मनीष तिवारी के बाद राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना

राहुल

आज देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण(Nirmala Sitharaman) ने संसद भवन में वित्त वर्ष 2021-22 बजट पेश किया है. सीतारमण द्वारा पेश बजट पर राहुल गांधी ने अपना विचार रखा है. आए नए को देखते हुए कांग्रेस ने मोदी सरकार को निशाना बनाना शुरु कर दिया है. पहले काग्रेस प्रवक्ता मनीश तिवारी ने फिर स्वयं राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने नए बजट पर अपना हमला बोला है.

राहुल ने किया ट्वीट

मोदी सरकार पर अपना निशाना साधते हुए राहुल ने ट्वीट कर लिखा है कि ‘बजट: गरीबों के हाथों में नगदी भूल ही जाइए. देश की संपत्ति भी पूंजीपतियों को सौंप रही सरकार.’ राहुल के पहले मनीष तिवारी ने भी बजट हम हमला बोल कर कहा था कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के भाषण में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 37 महीनों की रिकॉर्ड गिरावट का उल्लेख नहीं है और इसमें अर्थव्यवस्था को गति देने पर ध्यान नहीं दिया गया.

कांग्रेस पार्टी प्रवक्ता मनीष तिवारी ने ट्वीट किया,कि  ‘वित्त मंत्री के भाषण में इसका कोई जिक्र ही नहीं हुआ कि GDP में 37 महीनों की रिकॉर्ड गिरावट है. 1991 के बाद से यह सबसे बड़ा संकट है उन्होंने दावा किया कि देश की बहुमूल्य संपत्तियों को बेचने  के अलावा बजट में कोई मुख्य ध्यान नहीं दिया गया. उन्होंने कहा कि मुख्य बात यह है कि अर्थव्यवस्था को आगे नहीं बढ़ाओ, सिर्फ देश की बहुमूल्य संपत्तियों को बेचो. बजट आने के पहले भी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) कहा था कि बजट में छोटे एवं मझोले कारोबारियों की मदद करने के साथ स्वास्थ्य और रक्षा खर्च में बढ़ोतरी किए जाने की जरूरत है.

राहुल गांधी ने ट्वीट किया था, ‘बजट -2021 में एमएसएमई, किसानों और कामगारों की मदद की जानी चाहिए ताकि रोजगार का सृजन हो सके.’ कांग्रेस नेता ने कहा, ‘लोगों के जीवन बचाने के लिए स्वास्थ्य क्षेत्र पर खर्च बढ़ाया जाए. सीमाओं की सुरक्षा के लिए रक्षा खर्च में बढ़ोतरी हो.’

close