तनाव घटाने की प्रक्रिया के बीच चीन ने तैयार किया प्लान-B! LAC पर तैनात की मिसाइल


दोस्ती में धोखा देना तो चीन की पुरानी आदत है। गलवान घाटी में बीते दिनों हुई हिंसा के हालातों को सुधारने के लिए भारत और चीन ने सैन्य वार्ता को 9 राउंड में पूरा किया, लेकिन पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) 3488 किलोमीटर की वास्तविक नियंत्रण रेखा पर अपने हथियारों सहित पीछे हटने का ना तो नाम ले रही है और ना ही कोई ऐसा इशारा कर रही है। इसके विपरीत पीएलए ने तिब्बत में मिसाइल इकाइयों और स्व-चालित होवित्जर के साथ तैयारी को और अधिक ताकतवर बना लिया है।

राष्ट्रपति के भाषण से मिल रहे संकेत

हाल ही में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के एक बयान से ऐसा कयास लगाया जा रहा है कि दाल में कुछ काला है। जिनपिंग अपने भाषण में चीनी सेना को तैयार रहने के लिए बोला है, जिसके बाद से ही कई तरह की बातें हो रही हैं। इसके सबूत रक्षा मंत्रालय को सबूत मिले हैं।  पूर्वी लद्दाख के चुमार में एलएसी से सिर्फ 82 किलोमीटर की दूरी पर स्थित शिंकाने पीएलए कैंप के नजदीक 35 भारी सैन्य वाहनों और चार 155 एमएम पीएलजेड 83 सेल्फ प्रोपेल्ड होवित्जर को तैनात किया हैं। इसके अलावा चीन का एक सैनिक  एलएसी के भारतीय हिस्से में पकड़ा गया।

सैन्य वाहन के साथ मिसाइल की इकट्ठा

चुमार के एलएसी से केवल 82 किलोमीटर की दूरी पर स्थित शिंकाने पीएलए कैंप के पास 35 हैवी सैन्य वाहन, चार 155 एमएम पीएलजेड, 83 सेल्फ प्रोपेल्ड होवित्जर तैनात कर दिए हैं। रूडोक सर्विलांस चौकी के नजदीक में  एलएसी से 90 किमी दूर सैनिकों के आराम के लिए चार बड़े शेड और उनके क्वार्टर के पास वाहनों का दिखना और पिछले महीने नए कामों को शुरु होते देखा गया है।बता दें कि रुडोक और शिक्नेह दोनों कब्जे वाले अक्साई चीन क्षेत्र में हैं।

भारतीय सेना के कमांडरों ने बताया कि पैंगोल झील के उत्तरी तट पर फिंगर-4 और फिंगर-7 के बीच नए सिरे से उनकी तैनाकी बढ़ा दी गई है। सेना के अधिकारियों के अनुसार पियु रडार साइट के पास एलएसी से 16 किलो मीटर दूरी के आसपास 20 सैन्य वाहन तैनात किए गए हैं। दिसंबर 2020 के बाद से पीएलए लगातार स्पंगगुर त्सो के आसपास सैना की तैनाती मजबूत कर रहा है। PLA ने लद्दाख में 1597 किमी इलाके में सेना की लंबे समय तक तैनाती के लिहाज से तैयारी की है।

close