मप्र बस एसोसिएशन के फैसले पर सीधी के बस आपरेटर नहीं एकजुट

 


सीधी। डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर बस संचालकों पर आर्थिक भार और भी बढ़ गया हैं. वहीं दूसरी ओर प्रदेश का बस एसोसिएशन, परिवहन विभाग पर जगह-जगह चैकिंग अभियान के बहाने अवैध वसूली करने का आरोप लगा रहा हैं. ऐसे में मध्य प्रदेश बस एसोसिएशन ने विरोध स्वरुप प्रदेश स्तरीय निर्णय लिया है कि दो दिनों तक बसों का संचालन बंद किया जाएगा. लेकिन सीधी में बसों के पहिए नहीं थमेंगे.

बता दें कि जिले के रामपुर नैकिन थाना में पिछले दिनों हुए बस हादसे से 54 लोगों की मौत होने के बाद समूचा विभाग सख्ते में आ गया हैं. परिवहन विभाग द्वारा जगह-जगह चैकिंग प्वाइंट बनाकर बसों की जांच कर चालानी कार्यवाही की जा रही है. बसों के कागजात होने के बाद भी उन पर दबाव बनाया जा रहा हैं. बस संचालकों का कहना है कि सीधी हादसे के बाद भोपाल सहित प्रदेश में चल रही परिवहन विभाग की चैकिंग अभियान एक तरफा गलत कार्रवाई हैं.

डीजल महंगा लेकिन किराये में बढ़ोत्तरी नहीं

मध्य प्रदेश बस एसोसिएशन का कहना है कि डीजल तो महंगा हो गया. लेकिन किराये में बढ़ोत्तरी नहीं की जा रही हैं. प्रदेश में जब डीजल 58 रूपये प्रति लीटर था. तब बसों का किराया निर्धारित किया गया था. लेकिन आज डीजल 90 रूपये प्रति लीटर हो गया है. लेकिन किराया जस का तस हैं. ऐसी में बसों का संचालन करना मुश्किल हो गया हैं. बस मालिकों का कहना है कि जब तक किराये में बढ़ोत्तरी नहीं होती, आंदोलन आगे भी जारी रहेगा.

बस हादसे को लेकर प्रशासन जिम्मेदार

मध्य प्रदेश बस ऑनर्स द्वारा बैठक में कहा गया कि किसी एक बस की गलती होने के कारण उसकी सजा सभी बसों को नहीं मिलना चाहिए. सीधी बस दुर्घटना का जिम्मेदार प्रशासन खुद हैं. नतीजा ये कि सतना में परीक्षा थी तो जिला प्रशासन को मालूम होना चाहिए था. कि इस मार्ग में कितनी बसें संचालित हैं और आसपास के जिलों का एक मात्र सेंटर सतना हैं. इसके लिए वैकल्पिक व्यवस्था करनी चाहिए. वहीं दूसरा कारण यह था कि सड़क बहुत खराब थी. इसके बाद भी वहां पुलिस की कोई व्यवस्था नहीं थी. जो ट्रैफिक को नियंत्रित कर सके. एसोसिएशन ने कहा कि सीधी बस हादसे की सजा हमे क्यों दी जा रही है जबकि इस हादसे के पीछे प्रशासन जिम्मेदार है. प्रशासन अपनी गलती को छिपाने के लिए हम पर सजा मढ़ रही है जो गलत हैं.

इस मामले में हमें नहीं मिली है जानकारी : मिश्रा

बस एसोसिएशन सीधी के अध्यक्ष जेएस मिश्रा ने कहा कि बसों के संचालन के बंद करने को लेकर हमें प्रदेश स्तर से अभी तक कोई ऐसी सूचना नहीं मिली हैं. हां यह सही बात है कि डीजल 90 रूपये लीटर हो गया हैं. ऐसे में बस मालिको को दिक्कतें हो रही हैं लेकिन जब भी ऊपर से आदेश होगा उस पर हम आगामी प्रक्रिया शुरू करेंगे.

close