इस बड़े हादसे के बाद बदल गई थी मशहूर गीतकार संतोष आनंद की जिंदगी, हालात सुनकर छलक उठेंगे आंसू


इस बड़े हादसे के बाद बदल गई थी मशहूर गीतकार संतोष आनंद की जिंदगी, हालात सुनकर छलक उठेंगे आंसू

ये पूरी दुनिया बेहद ही छोटी है। यहां कभी अमीरों की जिंदगी जीने वाला शख्स भी फकीर बनकर रह जाता है। वही, बॉलीवुड में हमने कई बार ऐसे किस्से होते हुए देखे हैं जहां कभी लोगों के बीच अपने काम के चलते हिट हुए लोग भी गरीबी की जिंदगी बिताने पर मजबूर हो जाते हैं। ऐसा ही कुछ मशहूर गीतकार संतोष आनंद जी के साथ होता हुआ नजर आया। आप सब सोच रहे होंगे कि आज हमने इनके नाम का जिक्र क्यों किया तो आपको हम बताते देते हैं कि इंडियन आइडल 12 के एक एपिसोड में जिंदगी की ना टूटे लड़ी जैसे सुपरहिट गाना लिखने वाले मशहूर गीतकार नजर आए। जब वो शो पर पहुंचे तो एक अलग ही भावुक कर देने वाला माहौल देखने को मिला।

जी हां, वही, संतोष जी जिन्होंने  'जिंदगी की ना टूटे लड़ी', 'एक प्यार का नगमा है', 'मैं ना भूलूंगा' और मोहब्बत है क्या चीज' जैसे कई शानदार गीते लिखे जिसे हर कोई आज भी गुनगुना पसंद करता है। यहां तक की आप ये जानकार हैरान रह जाएंगे कि उन्हें फिल्मफेयर अवॉर्ड से भी नवाजा गया है। अब सवाल ये खड़ा होता है कि इतना शानदार मुकाम हासिल करने वाले संतोष जी की आखिरी ऐसी हालत हुई कैसे तो आइए आपके इस सवाल का जवाब हम आपको देते हैं?

इस हादसे ने बदल दिया सबकुछ

दरअसल संतोष जी की अच्छी खासी लाइफ में एक भयानक मोड़ उस वक्त आया जब उनके बेटे संकल्प ने 2014 में एक ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दे दी थी। इतना ही नहीं संकल्प की पत्नी ने भी अपनी जान संकल्प के साथ दे दी थी। इस बड़ी घटना के बाद संतोष जी पूरी तरह से टूट गए। 

संतोष जी की आर्थिक स्थिति भी कुछ अच्छी नहीं चल रही है। खबरों की माने तो संतोष जी पर काफी ज्यादा कर्ज चढ़ा हुआ है। इसके चलते ही उनका जीना काफी मुश्किल हो गया है। इंडियन आइडल के शो में संतोष  ने इस बात का जिक्र किया कि वो सालों बाद मुंबई आकर काफी खुश है। उन्होंने अपनी बात में कहा, 'सालों बाद मुंबई में आया हूं। अच्छा लग रहा है। रात-रात भर जागकर मैंने गीत लिखे। मैंने गीत नहीं लिखे। अपने खून से कलेजे से लिखे हैं। आज मुझे ऐसा लगता है कि मेरे लिए तो दिन भी रात हो गया है। मैं जीना चाहता हूं।

संतोष जी की बात सुनकर शो की जज नेहा कक्कड़ काफी ज्यादा भावुक हो गई और रोने लगी। नेहा ने अपनी बात में कहा कि आपके लिखे हुए गीतों से हमने प्यार करना सीखा है। इतना ही नहीं नेहा कक्कड़ ने भावुक होकर संतोष जी को 5 लाख रुपये की मदद का ऐलान बी किया है। उन्होंने कहा, 'मैं अपनी ओर से आपको 5 लाख रुपये की मदद करना चाहती हूं। आप ये समझकर रख लीजिए कि आपकी पोती की तरफ से हैं।'

स्वाभिमानी आदमी है संतोष जी

मदद की पेशकश करने पर संतोष जी ने कहा कि मैं बड़ा ही स्वाभिमानी आदमी हूं। कभी भी आजतक किसी से कुछ भी नहीं लिया है। आपको हम इस बात की जानकारी दे देते हैं कि महान गीतकार संतोष जी को यूपी सरकार की ओर से प्रतिष्ठित सम्मान यश भारती भी दिया गया था। उन्हें ये सम्मान 2016 में मिला था। नेहा कक्कड़ ने संतोष जी के पास आकर 'इक प्यार का नगमा है' गाया और रोते हुए उन्हें गले लगा लिया।

close