क्या आपको भी आती है हड्डियों से निकलने वाली आवाज? तो आप भी है इस गंभीर बीमारी के शिकार

 

 क्या आपको भी आती है हड्डियों से निकलने वाली आवाज? तो आप भी है इस गंभीर बीमारी के शिकार

हमारे शरीर के कई ऐसे अंग मौजूद है जिनका स्वस्थ रहने हमारे लिए काफी ज्यादा जरूरी है। उसी में से एक है जोड़े जोकि हमारे शरीर का ऐसा हिस्सा है जिसकी मदद से दो या फिर उससे अधिक हड्डियां आपस में मिलती है। जोड़ की जो हड्डियां होती है वो लचीली लेकिन मजबूत कार्टिलेज से कवर होती है, जिसकी मदद से ये आपस में टकराए बिना हिलती है। लेकिन वहीं, ऑस्टियोआर्थराइटिस जोड़ों की जो हड्डी पर कार्टिलेज की जो परत चढ़ी होती है उसे कमजोर करता है। इसका असर ये होता है कि जोड़ों का सरफेस रफ होने लग जाता है। इसकी यहीं वजह है कि जोड़े में सूजन, दर्द और अकड़ने होने लगती है। 

ओस्टियोआर्थराइटिस की जब भी बात आती है इशके लक्षण व्यापक तौर पर अलग हो सकते हैं। जैसे कि जोड़ों को हिलाते वक्त आपको चटकने की आवाज सुनाई देना। यदि आपको ये आवाज सुनाई देती है तो ये हड्डी से हड्डी टकराने का संकेत हो सकता है। गठिया को किसी बाकी लक्षण के बिना सिर्फ एक ही लक्षण के आधार पर नहीं पहचाना जा सकता है। क्रेपिटस के साथ-साथ बाकी लक्षण जैसे कि जोड़ों में दर्द ऑस्टियोआर्थराइटिस के  लक्षण हो सकते हैं। जोड़ों में एक तरह के अकड़न भी खासतौर पर सुबह के वक्त या इनैक्टिविटी पीरियड के बाद ऑस्टियोआर्थराइटिस का वॉर्निंग साइन हो सकती है।

इसके चलते प्रभावित जोड़ों की गति में भी कमी आ सकती है। 40 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में इसका जोखिम देखने को ज्यादा मिलता है। इसके अलावा औरतों और ज्यादा वजन वाले लोगों में भी इसका खतरा देखने को मिलता है। साथ ही विरासत में मिलने वाले जीन्स भी ऑस्टियोआर्थराइटिस का कारण बन सकते हैं। इसके लक्षण वक्त के साथ अपने आप बदतर नहीं हो जाते हैं। इसका क्या है इलाज आइए आपको बताते हैं। एक्सपर्ट का इसको लेकर कहना है कि फिजिकल एक्सरसाइज, मेडिकेशन और पेनपुल रिलीफ ट्रीटमेंट के जरिए इसका इलाज आसानी से किया जा सकता है। 

close