बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती को चढ़ाएं इन चीजों का प्रसाद, जानें पूजा का विशेष महत्व

  बसंत पंचमीहर साल बसंत पंचमी(Basant Panchami) के त्यौहार को काफी धूमधाम से मनाया जाता है. इस दिन हम सभी मां सरस्वती की पूजा करते है. पंचांग के हिसाब से देखा जाए तो बसंत पंचमी का त्योहार माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है. इस साल देश में बसंत पंचमी 16 फरवरी, दिन  मंगलवार को मनाई जाएगी.  हिंदू धर्म के अनुसार इस दिन कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है. ऐसा कहा जाता है कि मां सरस्‍वती के आशीर्वाद से ज्ञान और बुद्धि में बढ़ोत्तरी होती है. सभी लोग इस दिन पीले कपड़े पहनते हैं.

इन चीजों को करे मां को अर्पित

basant_panchami1

पौराणिक मान्यताओं के हिसाब से मां सरस्वती शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को ब्रह्माजी के मुख से प्रकट हुई थीं. इस कारण इस दिन को मां सरस्वती की पूजा की जाती है. मां सरस्वती की पूजा करने से वो प्रसन्न होती हैं और सबपर उनकी कृपा बरसती है. इस दिन हर चीज पीली ही रखी जाती है. अपने साथ साथ मां सरस्‍वती की मूर्ति को भी पीले रंग के वस्त्र पहनाने चाहिए. साथ ही पीले पुष्प, पीले रंग की ही मिठाई भी भोग के तौर पर लगानी  चाहिए. इस अवसर पर मां सरस्वती की वंदना का पाठ करना बहुत ही शुभ माना जाता है. इसके साथ मां को केसर या पीले चंदन का टीका जरूर लगाएं.

इस मुहुर्त में करें पूजा

सरस्वतीपूजा करने के लिए 16 फरवरी को सुबह 3 बज कर, 36 मिनट पर मुहुर्त शुभ रहेगा. ये मुहुर्त 16 से लेकर 17 फरवरी को सुबह 5 बज कर, 46 मिनट पर समाप्‍त हो जाएगा. वहीं 16 फरवरी को सुबह 6 बज कर, 59 मिनट से दोपहर 12 बज कर, 35 मिनट के बीच सरस्वती पूजा का शुभ मुहूर्त रहेगा. सही मुहुर्त पर मां का पूजन करने से पूजा का लाभ जल्द ही मिलता है.

close