विपक्ष पर बरसे PM, बोले-जो मनमोहन सिंह को करना था वो मोदी कर रहे हैं, करना चाहिए गर्व


नई दिल्ली।
 कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसानों के आंदोलन के बीच सोमवार को राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान पीएम मोदी राज्यसभा में अपनी बात रख रहे हैं। उन्होंने अपने सम्बोधन में विपक्ष को घेरने के साथ साथ आंदोलनकारी किसानों से एक खास अपील भी की। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री कृषि कानूनों को लेकर विपक्षी नेताओं द्वारा उठाए गए सभी सवालों के जवाब देर हे हैं। राज्यसभा में पीएम मोदी ने विपक्ष को जमकर घेरा और कहा- ‘शरद पवार सहित कई कांग्रेस के नेताओं ने भी कृषि सुधारों की बात की है। शरद पवार ने अभी भी सुधारों का विरोध नहीं किया, हमें जो अच्छा लगा वो किया आगे भी सुधार करते ही रहेंगे। आज विपक्ष यू-टर्न कर रहा है, क्योंकि राजनीति हावी है।’ साथ ही प्रधानमंत्री ने सदन में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का कथन पढ़ने के साथ कहा- ‘हमारी सोच है कि बड़ी मार्केट को लाने में जो अड़चने हैं, हमारा प्रयास है कि किसान को उपज बेचने की अनुमति हो’।

प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा, ‘जो मनमोहन सिंह ने कहा वो मोदी को करना पड़ रहा है, आप गर्व कीजिए। दूध का काम करने वाले, पशुपालन वाले, सफल का काम करने वालों के पास खुली छूट है। लेकिन किसानों को ये छूट नहीं है।’ उन्होंने आगे कहा- ‘जब लाल बहादुर शास्त्री जी को कृषि सुधारों को करना पड़ा, तब भी उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। मगर वो पीछे नहीं हटे थे। तब लेफ्ट वाले कांग्रेस को अमेरिका का एजेंट बताते थे, आज मुझे ही वो गाली दे रहे हैं। कोई भी कानून आया हो, कुछ समय के बाद सुधार होते ही हैं।’

पीएम मोदी ने अपील करते हुए कहा, ‘आंदोलनकारियों को समझाते हुए हमें आगे बढ़ना होगा, गालियों को मेरे खाते में जाने दो मगर सुधारों को होने दो। बुजुर्ग आंदोलन में बैठे हैं, उन्हें घर जाना चाहिए। आंदोलन खत्म करें और चर्चा आगे चलती रहे। किसानों के साथ लगातार वार्ता की जा रही है।’ पीएम मोदी ने किसानों को विश्वास दिलाया कि ‘MSP है, था और रहेगा। मंडियों को मजबूत किया जा रहा है। जिन 80 करोड़ लोगों को सस्तों में राशन दिया जाता है, वो भी लगातार जारी रहेगा। किसानों की आय बढ़ाने के लिए दूसरे उपाय पर बल दिया जा रहा है। यदि अब देर कर देंगे, तो किसानों को अंधकार की ओर धकेल देंगे।’

close