केजरीवाल मॉडल से डर गए पीएम मोदी, लेकिन फाइटर हैं अरविंद, लड़ते रहेंगे: सिसोदिया


नई दिल्ली: दिल्ली सचिवालय में आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि कल पास हुआ बिल दिखाता है कि मोदी सरकार अरविंद केजरीवाल से असुरक्षित महसूस कर रही है. सिसोदिया ने कहा कि आज देश में लोग बात करने लगे हैं कि अरविंद केजरीवाल मोदी के विकल्प हो सकते हैं. लोग देख रहे हैं कोई ऐसा व्यक्ति है जो देश को एक अच्छी गवर्नेंस दे सकता है वो अरविंद केजरीवाल हैं. इसलिए उन्हें आगे बढ़ने से रोकने के लिए यह बिल लाया गया है.

'भाजपा को बेचैन कर रहे अच्छे काम'
मनीष सिसोदिया ने कहा कि पिछले 6 साल में दिल्ली में बहुत काम हुए हैं और हम यह नहीं कह रहे, दुनिया भर में इसे लेकर बात हो रही है, स्टडी की जा रही है कि कठिन परिस्थितियों के बावजूद केजरीवाल सरकार ने काम किया. स्कूल, अस्पताल के क्षेत्र में हुए काम और फ्री बिजली-पानी, बसों में महिलाओं की फी यात्रा का भी सिसोदिया ने जिक्र किया. सिसोदिया ने कहा कि ये सभी चीजें भाजपा को बेचैन कर रही हैं, क्योंकि ऐसा वे अपने राज्यों में नहीं कर पा रहे.

'कहीं नहीं हो रही मोदी मॉडल की बात'
सिसोदिया ने कहा कि अरविंद केजरीवाल की राजनीति के सामने भाजपा का कोई मॉडल काम नहीं कर रहा है. केंद्र और कई राज्यों में इनकी सरकार है, लेकिन कहीं भी कोई मोदी मॉडल की बात नहीं करता, कहीं कोई बीजेपी मॉडल की बात नहीं करता. आज लोग पूछते हैं कि जब दिल्ली जैसे छोटे राज्य में, जहां बिजली बनती तक नहीं है, वहां अगर 24 घंटे बिजली मिल सकती है और दो तिहाई आबादी को बिजली फ्री मिल सकती है, तो फिर भाजपा के उन राज्यों में ऐसा क्यों नहीं हो सकता, जहां संसाधन हैं.

'देशभर में हो रही केजरीवाल मॉडल की मांग'
सिसोदिया ने पानी और शिक्षा का भी जिक्र किया और कहा कि कुल मिलाकर प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के पास बताने के लिए लोगों को कुछ नहीं है, ना कोई मोदी मॉडल है ना कोई भाजपा मॉडल है. इसलिए वे केजरीवाल मॉडल से घबरा रहे हैं, असुरक्षित महसूस कर रहे हैं और इसलिए यह बिल पास किया गया है. सूरत और हिमाचल जैसे राज्यों के निकाय चुनावों में आम आदमी पार्टी को मिली सफलता का जिक्र करते हुए सिसोदिया ने कहा कि आजजहां भी जाओ चारों तरफ केजरीवाल मॉडल की डिमांड हो रही है, लोग कहते हैं कि काश हमारे यहां भी कोई केजरीवाल जैसा मुख्यमंत्री आ जाए.

'उनका मॉडल चोरी-बेईमानी का मॉडल'
हाल ही में मुख्यमंत्री घर-घर राशन योजना पर केंद्र सरकार द्वारा लगाई गई रोक का भी सिसोदिया ने जिक्र किया. उपमुख्यमंत्री ने कहा कि हमने डोर स्टेप डिलीवरी सर्विसेज शुरू की थी, ताकि लोगों को अपनी जरूरी सेवाओं के लिए दफ्तरों के चक्कर न लगाने पड़े और सरकारी कर्मचारी लोगों के घरों तक काम करके जाएं. भाजपा को चाहिए था कि केंद्र और अन्य राज्यों में इस योजना को लागू करें, लेकिन वे इस योजना को बंद करने पर आ गए. सिसोदिया ने यहां तक कहा कि उनका मॉडल चोरी और बेईमानी का मॉडल है.

'हम जो कहते हैं, करके दिखाते हैं'
भाजपा को चुनौती देते हुए सिसोदिया ने कहा कि बीते 6 साल में इन्होंने बहुत अड़चनें पैदा की, लेकिन अरविंद केजरीवाल फाइटर हैं, इन अड़चनों से डरने वाले नहीं हैं, काम करते रहेंगे. सिसोदिया ने कहा कि हम जो कहते हैं, वो करके दिखाते हैं. हमने फ्री बिजली की घोषणा की, तो आज दो तिहाई लोगों के घरों में बिजली फ्री आती है. महिलाओं के लिए फ्री यात्रा की बात की, तो सभी महिलाओं को फ्री यात्रा कराते हैं. इसीलिए पीएम मोदी और भाजपा वाले डरे हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे केजरीवाल मोदी के विकल्प के रूप में स्थापित हो जाएंगे.

'लीगल एक्सपर्ट्स से कर रहे बात'
सिसोदिया ने यहां तक कहा कि उनकी नींद हराम हो गई है और आज प्रधानमंत्री मोदी नेगेटिव राजनीति कर रहे हैं. प्रधानमंत्री का पद देश के पिता के समान होता है. उनका दायित्व है कि अच्छे कामों का समर्थन करें, लेकिन इसकी जगह वे नेगेटिव राजनीति कर रहे हैं. सिसोदिया ने इस कहावत का जिक्र किया कि अपनी लकीर बड़े करने के लिए किसी की लकीर मिटाई नहीं जाती. उन्होंने कहा कि जनता आज देख रही है उनकी नेगेटिव राजनीति को. आगे के रास्ते को लेकर सिसोदिया ने कहा कि हम लीगल तरीके तलाश रहे हैं, एक्सपर्ट्स से बात कर रहे हैं.

close