इस देश के सैनिकों को मिलती है सेक्स थेरेपी, यौन साथी के रूप में हो सकता है महिला या पुरुष


तेल अवीव।
 इजरायल हमेशा अपने अनुसंधान और चिकित्सा के लिए प्रसिद्ध रहा है। इजरायल में सैनिकों का इलाज सेक्स थेरेपी से किया रहा है। सेक्स थेरेपी के लिए एक व्यक्ति को मरीज के यौन साथी के रूप में काम पर रखा गया है। इस थेरेपी को इलाज का बेहद विवादास्पद तरीका माना गया है और यह बहस का मुद्दा बन गया है। बहस और विवादों के बीच इजरायल में उन सैनिकों के लिए यह थेरेपी सरकारी खर्चे पर उपलब्ध है जो बुरी तरह घायल हैं और डॉक्टरों के अनुसार उन्हें इसकी जरूरत है। इजरायल के सेक्स थेरेपिस्ट रोनित अलोनी का तेल अवीव में इसी तरह का परामर्श रूम है। यह वो जगह है जहां पेड सरोगेट पार्टनर क्लाइंट्स को सिखाते हैं कि अंतरंग संबंध कैसे बनाए जाएं और अंत में सेक्स कैसे करें। वह अपने मरीजों को मानसिक सम्बल प्रदान करती हैं। रिपोर्ट के अनुसार पेड सरोगेट पार्टनर के रूप में चल रहा यह काम बेहद रोचक है। यह जगह किसी क्लीनिक और होटल की तरह बिल्कुल नहीं दिखता। उस कमरे में एक बिस्तर, एक सीडी प्लेयर, शॉवर की व्यवस्था और कामुक कलाकृति से दीवारों को सजाया गया है। सेक्स थेरेपी कई तरीके से एक कपल थेरेपी है और किसी के पास अगर पार्टनर नहीं है तो वह इस प्रक्रिया को पूरा नहीं कर सकता है। अलोनी ने कहा कि यह सरोगेट महिला या पुरुष दोनों ही हो सकते हैं। ये पार्टनर की भूमिका निभाते हैं। सेक्स थेरेपी को लेकर हमेशा विवाद रहा है। इस थेरेपी को पसंद न करने वाले लोग इसे वेश्यावृत्ति मानते हैं लेकिन इजरायल में यह इस हद तक स्वीकार है कि सरकार सैनिकों के लिए इसका खर्च उठाती है। जो सैनिक किसी दुर्घटना या सैन्य अभियान की वजह से सेक्स करने की क्षमता को खो चुके हैं, उनकी मदद की जाती है।

इलाज और वेश्यावृत्ति में कोई समानता नहीं
इस आलोचना पर अलोनी का कहना है कि लोग यहां थेरेपी के लिए आते हैं, मजे लेने के लिए नहीं। इलाज और वेश्यावृत्ति में कोई समानता नहीं है। इस पूरी थेरेपी के दौरान 85 फीसदी सत्रों में करीबी संबंध बनाने, छूने और एक-दूसरे को प्यार करना बताया जाता है। लोगों को उनकी मानसिक स्थिति को मजबूत बनाने आनन्द का जीवन जीने के लिए प्रेरित किया जाता है।

ऐसे सेक्स सरोगेट थेरेपी की हुई थी शुरूआत
इस थेरेपी को लेने वाले सैनिकों के नाम सार्वजनिक नहीं किए जाते हैं, लेकिेन मिस्टर ए को इस थेरेपी को लेने वाला पहला सैनिक माना जाता है। करीब 30 साल पहले एक दुर्घटना के बाद इजरायल के रक्षा मंत्रालय ने सेक्स सरोगेट थेरेपी के लिए उसका भुगतान किया था। बताया जाता है कि ऊंचाई से गिरने की वजह से उनके कमर के निचले हिस्से में लकवा मार गया था। मिस्टर ए पहले से ही शादीशुदा थे और उनके बच्चे भी थे लेकिन उनकी पत्नी ने डॉक्टरों और चिकित्सकों से सेक्स के बारे में बात करने में सहज महसूस नहीं किया। इसलिए उन्होंने ऐसे क्लीनिक की मदद ली, जहां सेक्स थेरेपी के जरिए उनकी मदद की गई।

close