IPL 2021 में बेंच पर बैठे रहे खिलाड़ियों की सर्वोच्च प्लेइंग XI

 


इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल) 2021 फिलहाल कोरोना महामारी के कारण स्थगित कर दिया गया हैं. दरअसल पिछले कुछ दिनों से लगातार कोरोना पॉजिटिव मामलें सामने के बाद बीसीसीआई ने ये अहम फैसला किया.

आईपीएल वर्तमान में दुनिया की सबसे सफल टी20 लीग हैं लेकिन कई बार टीम कॉम्बिनेशन और 4 विदेशी खिलाड़ियों के नियम के कारण कुछ होनहार खिलाड़ियों को प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिल पाती हैं. आज इस लेख में हम एक ऐसी प्लेइंग इलेवन जानेगे, जो शुरूआती 29 मैचों तक बेंच पर बैठी रही हैं.

ओपनर- रॉबिन उथप्पा और जैसन रॉय

चेन्नई सुपर किंग्स के रॉबिन उथप्पा और सनराइजर्स हैदराबाद के जैसन रॉय इस टीम में ओपनिंग की जिम्मेदारी संभालेंगे. सीएसके टीम में फाफ डू प्लेसिस और ऋतुराज गायकवाड की जोड़ी ने लगातार अच्छा किया हैं, जिसके कारण उथप्पा एक मैच के लिए तरसते रहे जबकि सनराइजर्स की टीम में 4 विदेशी खिलाड़ियों के नियम के कारण रॉय को बेंच पर बैठा रहना पड़ा हैं.

मध्यक्रम- मंदीप सिंह, सैम बिलिंग्स और सरफराज़ खान

इस टीम में नंबर 3 पर पंजाब किंग्स के होनहार खिलाडी मंदीप सिंह हैं. पंजाब टीम में मयंक अग्रवाल और केएल राहुल के लगातार अच्छे प्रदर्शन के कारण उन्हें प्लेइंग इलेवन से बाहर बैठा रहना पड़ा हैं. जबकि नंबर 4 पर दिल्ली कैपिटल्स के सैम बिलिंग्स हैं. इस खिलाड़ी आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स के लिए अच्छा किया हैं लेकिन आईपीएल 2021 में उन्हें एक भी मौका नहीं मिल पाया. दरअसल दिल्ली टीम में स्टीव स्मिथ, शिमरोन हेटमायर, कगिसो रबाड़ा और मार्कस स्टोइनिस 4 विदेशी खिलाड़ी टीम मैनेजमेंट की पहली पसंद रहे हैं.

बेंच खिलाड़ियों की प्लेइंग इलेवन में सरफराज़ खान नंबर 5 पर रहे हैं. पंजाब किंग्स के मध्यक्रम ने सीजन में बेहद निराशाजनक प्रदर्शन किया हैं, इसके बावजूद सरफराज़ को प्लेइंग इलेवन में जगह न मिलना काफी हैरानी वाला रहा हैं.

ऑलराउंडर- बेन कटिंग और कृष्णप्पा गौथम

कोलकाता नाईट राइडर्स की टीम ने आईपीएल 2021 में संघर्ष किया हैं, इसके बावजूद बेन कटिंग को एक भी मौका न देना काफी हैरानी वाला हैं. ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी के प्लेइंग इलेवन में आने काफी संतुलन की स्तिथि पैदा होती हैं.

कृष्णप्पा गौथम आईपीएल 2021 की नीलामी में आकर्षण का केंद्र रहे हैं हालाँकि चेन्नई सुपर किंग्स में रवीन्द्र जडेजा और मोइन अली जैसे स्पिन ऑलराउंडर होने के बाद उन्हें प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिली. अगर ये खिलाड़ी चेन्नई के आलावा अन्य किसी भी टीम में होता तो उन्हें निश्चित रूप से प्लेइंग इलेवन में चुना जाता.

स्पिनर- पियूष चावला

आईपीएल के सबसे अनुभवी स्पिनरों में से एक पियूष चावला आईपीएल 2021 में मुंबई इंडियंस का हिस्सा थे. लेकिन कप्तान रोहित शर्मा ने राहुल चाहर और ऑलराउंडर क्रुनाल पांड्या को स्पिन विभाग की जिम्मेदारी सौंपी. टीम मैनेजमेंट ने कुछ मैचों जयंत यादव को भी मौका दिया लेकिन चावला पूरे सीजन बेंच पर बैठे रहे.

पेसर- लोकी फर्ग्यूसन, उमेश यादव और बेसिल थम्पी

तेज गेंदबाज लोकी फर्ग्यूसन कोलकाता नाईट राइडर्स का हिस्सा रहे हैं लेकिन उन्हें एक भी मैच खेलने को नहीं मिल पाए जोकि बेहद हैरानी वाला रहा. अगर टीम मैनेजमेंट में पैट्रिक कमिंस के साथ फर्ग्यूसन को मौका देती तो ये जोड़ी सीजन की सबसे घातक तेज गेंदबाजी जोड़ी साबित हो सकती थी.

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने सीजन में अच्छा किया, जिसके पीछे प्रमुख कारण युवा हर्षल पटेल और मोहम्मद सिराज का प्रदर्शन रहा. इस पेस जोड़ी ने अपनी धारदार गेंदबाजी से बड़े-बड़े बल्लेबाजों को परेशान किया हैं, जिसके कारण कप्तान कोहली ने उमेश यादव को मौका देने पर विचार ही नहीं किया.

युवा तेज गेंदबाज बेसिल थम्पी ने करियर के शुरुआत में अपनी गति और सटीक योर्कर से खूब नाम कमाया था लेकिन पिछले कुछ सीजन से उनका प्रदर्शन साधारण रहा हैं, जिसके कारण उन्हें टीम में जगह मिलना भी मुश्किल हो गया हैं. सनराइजर्स की टीम में प्लेइंग इलेवन में भुवनेश्वर कुमार, सिद्धार्थ कॉल और संदीप शर्मा को मौका दिया, जिसके कारण थम्पी को बाहर बैठा रहना पड़ा.

close