अलग-अलग देशों के सर्वश्रेष्ठ ODI कप्तानों को चुनकर बनाई गई बेस्ट प्लेइंग XI

 


एकदिवसीय इतिहास में ऐसे कई कप्तान हुए हैं जिन्होंने न केवल अपनी प्रतिभा का जौहर दिखाते हुए शनार प्रदर्शन किया बल्कि अपनी अद्भुत कप्तानी से भी दुनियाभर में नाम कमाया हैं. इस लेख में हम वनडे क्रिकेट के सर्वोच्च कप्तानों द्वारा तैयार की गयी बेस्ट प्लेइंग इलेवन जानेगे.

ओपनर- ग्रीम स्मिथ और कुमार संगकारा

ग्रीम स्मिथ ने क्रमशः 2007 और 2011 में दो विश्व कपों में दक्षिण अफ्रीका की कप्तानी की और दोनों मौको पर उनकी टीम टूर्नामेंट जीतने की प्रबल दावेदार थी लेकिन वे महत्वपूर्ण मैच हार गए और अंत में टूर्नामेंट से उन्हें निराश होकर बाहर होना पड़ा. प्रतिभा और क्षमता के मामले में स स्मिथ एक दमदार खिलाडी रहे हैं.

कुमार संगकारा ने 2011 के विश्व कप फाइनल में श्रीलंका टीम की कप्तानी की थी लेकिन उनकी टीम फाइनल में भारत के विरुद्ध हार गयी थी.

मध्यक्रम- रिकी पोंटिंग, जावेद मियांदाद, शाकिब अल हसन और स्टीव वॉ

रिकी पोंटिंग इस टीम में नंबर 3 पर जगह बनाने खिलाड़ी हैं. वेस्टइंडीज के महानतम कप्तान क्लाइव लॉयड के बाद पोंटिंग दूसरे खिलाड़ी थे जिसने बतौर कप्तान अपनी टीम को दो लगातार वर्ल्ड कप जिताए थे.

जावेद मियांदाद भी एक बहुत ही विचारशील कप्तान थे हालंकि उन्होंने कुछ समय ही मैचों में पाकिस्तान की कप्तानी की. कभी भी जावेद ने कप्तानी के दबाव को अपनी बल्लेबाजी पर हावी नहीं होने दिया और हमेशा पाकिस्तान के लिए लगातार रन बनाने वाले खिलाड़ी बने रहे.

बांग्लादेशी दिग्गज शाकिब अल हसन भी इस सूची में शामिल हैं हालाँकि वर्तमान में आईसीसी द्वारा फिक्सिंग में नाम आने के बाद बैन झेल रहे हैं. आईसीसी 2019 में शाकिब सबसे सफल खिलाड़ियों में से एक रहे थे. स्टीव वॉ ने 1999 वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलियाई टीम को चैंपियन बनाया था, इसके आलावा उन्होंने हमेशा अपनी और गेंदबाजी से भी टीम की जीत में योगदान दिया हैं.

विकेटकीपर और ऑलराउंडर- एमएस धोनी और कपिल देव

एमएस धोनी और कपिल देव भारत को वर्ल्ड कप जिताने वाले दो इंडियन कप्तान हैं. 1983 में भारत के कपिल देव की कप्तानी में पहला वर्ल्ड कप जीता था जबकि 2011 में धोनी ने भारत को दूसरी बार चैंपियन बनाया था.

इसके आलावा दोनों ही खिलाड़ियों ने व्यक्तिगत रूप पर भी टीम के लिए कई ऐतिहासिक प्रदर्शन किये हैं जिसके कारण उन्हें इस टीम में चुना गया हैं.

गेंदबाज- डेनियल विटोरी, वसीम अकरम और वकार यूनिस

पाकिस्तान ODI टीम ने वसीम अकरम की कप्तानी में ODI विश्व कप 1999 के फाइनल में जगह बनाई. उस टूर्नामेंट में पाकिस्तान के गेंदबाजी आक्रमण के साथ, यह माना जाता था कि वे फाइनल में ताकतवर ऑस्ट्रेलियाई टीम को परेशान करने में सक्षम हो सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं था क्योंकि ऑस्ट्रेलिया ने अंततः फाइनल में पाकिस्तान को हराकर खिताब जीता था.

वकार यूनिस ने 2003 विश्व कप में पाकिस्तान की कप्तानी की, लेकिन उन्हें नॉकआउट में हारकर बाहर होना पड़ा था. हालाँकि, वसीम अकरम, शोएब अख्तर और यूनिस के साथ, पाकिस्तान ने उस टूर्नामेंट में भी अच्छी गेंदबाजी की थी.

डैनियल विटोरी ने आईसीसी वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड टीम को सेमीफाइनल तक पहुँचाया था लेकिन सेमीफाइनल में उनका सामना श्रीलंका था जो उपमहाद्वीप की सबसे मजबूत टीमों में से एक थी. एक आसान जीत के साथ, श्रीलंका ने सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के अभियान को समाप्त कर दिया था.

close