भारत के 5 दिग्गज खिलाड़ी जिनका डेब्यू टी20 ही बन गया आखिरी मैच

 


टी-ट्वेंटी फॉर्मेट की बढती लोकप्रियता को देखते हुए, अब प्रत्येक क्रिकेट खेलने वाले देश आईपीएल, बिग बैश सहित अलग-अलग टी20 लीगों का आयोजन करने लगे हैं. वर्तमान में ऐसे भी कई दिग्गज खिलाड़ी हैं, जिन्होंने टी20 पर अपना ध्यान केन्द्रित रखने के लिये वनडे और टेस्ट को अलिवदा कह दिया हैं.

आज इस लेख में हम 5 ऐसे दिग्गज इंडियन खिलाड़ियों के बारे में जानेगे, जिनका पहला अन्तराष्ट्रीय टी20 ही उनका आखिरी टी20 साबित हुआ हैं.

5) दिनेश मोंगिया

भारत के पूर्व खब्बू बल्लेबाज दिनेश मोंगिया ने 2006 में साउथ अफ्रीका के विरुद्ध अन्तराष्ट्रीय टी20 में डेब्यू किया था, इस मैच में होने 45 गेदों पर 38 रनों की महत्वपूर्ण पारी खेली थी लेकिन इस मैच के बाद उन्हें दोबारा कभी भी अन्तराष्ट्रीय टी20 में खेलने का मौका नहीं मिल पाया.

4) मुरली कार्तिक

बाएं हाथ के ऑर्थोडॉक्स स्पिनर मुरली कार्तिक भी इस सूची में शामिल हैं. कार्तिक ने 2007 में जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में पाकिस्तान के विरुद्ध अन्तराष्ट्रीय टी20 में डेब्यू किया था. इस मैच में उन्होंने 4 ओवरों की गेंदबाजी में 27 रन देकर कोई विकेट नहीं लिया था, जिसके बाद उनका पहला मैच ही उनके लिए आखिरी टी20 साबित हुआ.

3) सुब्रमणयम बद्रीनाथ

बाएं हाथ के सुब्रमणयम बद्रीनाथ इस सूची में शामिल सबसे अनलकी खिलाड़ी रहे हैं. आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स की ओर से खेलते हुए लगातार दमदार प्रदर्शन के बाद उन्हें 2011 में वेस्टइंडीज दौरे पर टी20 खेलने का मौका मिला था.

बद्रीनाथ ने इस मैच में सिर्फ 37 गेंदों पर 5 चौको की मदद से 43 रनों की महत्वपूर्ण पारी खेलकर मैन ऑफ द मैच जीता था, लेकिन इस मैच के बाद कप्तान धोनी ने उन्हें कभी प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं दी.

2) राहुल द्रविड़

भारत के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज रहे राहुल डेविड ने भी अन्तराष्ट्रीय टी20 खेला हैं. द्रविड़ ने 2011 में इंग्लैंड के विरुद्ध डेब्यू किया था, इस मैच में उन्होंने लगातार 3 छक्कों सहित सिर्फ 21 गेंदों पर 31 रनों की आतिशी पारी खेली थी लेकिन उनके लिए ये मैच आखिरी साबित हुआ था.

1) सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर भी इस सूची में शामिल हैं. आईपीएल में वर्षो तक शानदार प्रदर्शन करने वाले सचिन ने अन्तराष्ट्रीय टी20 फॉर्मेट युवा खिलाड़ियों के लिए छोड़ दिया था. सचिन ने 2006 में साउथ अफ्रीका के जोहान्सबर्ग के मैदान पर डेब्यू किया था.

मैच में सचिन ने 12 गेंदों पर 10 रन बनाने के साथ-साथ 2.3 ओवर की गेंदबाजी में 12 रन देकर एक विकेट भी झटकी थी लेकिन उन्हें दोबारा खेलने का मौका नहीं मिला.

close