भारतीय टीम ने खेला था क्रिकेट इतिहास का सबसे छोटा वनडे मैच, जानें क्या रहा था नतीजा

 


क्रिकेट के इतिहास में 28 फरवरी 1992 का दिन कई मायनों में बेहद खास है क्योंकि इसी दिन सबसे छोटा एकदिवसीय मैच खेला गया था। इस मुकाबले के साथ अजय जडेजा ने डेब्यू भी किया था। सन् 1992 का विश्व कप ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में खेला गया था, ‘सुगर कैपिटल’ के नाम से मशहूर शहर मैकेय में भारत का मुकाबला श्रीलंका के साथ तय था। आयोजक और दर्शकों को लग रहा था कि मैच खेले बिना ही रद्द हो जाएगा क्योंकि वहां जोरदार बारिश हो रही थी। लेकिन मैच खेला गया और वनडे क्रिकेट का सबसे छोटा मैच बन गया।

क्या हुआ था?

भारत और श्रीलंका दोनों टीम मैकेय के हर्रप पार्क पहुंच चुकी थीं, जहां मूसलाधार बारिश हो रही थी। लेकिन आयोजक इस मैच को रद्द नहीं होने देना चाहते थे। बारिश जब रुकी तो पिच बहुत गीली थी, जिसे आयोजकों ने हेलीकॉप्टर के माध्यम से सुखाने का प्रयास किया। जब पिच पूरी तरह से सुख गई तो लंच ब्रेक के बाद खेल शुरू हुआ। खेल शुरू होने के साथ दर्शकों का उत्साह भी बढ़ गया। लेकिन समय का ध्यान रखते हुए अंपायरों ने मैच को 50-50 ओवर के बदले 20-20 ओवर का कर दिया।

सिर्फ दो गेंद तक चला मुकाबला

श्रीलंका ने टॉस जीता और भारत को पहले बल्लेबाज़ी करने का न्यौता दिया। मैच की पहली गेंद पर कोई रन नहीं बना और दूसरी गेंद पर भारतीय सलामी बल्लेबाज़ श्रीकांत ने एक रन लिया। जिसके बाद एक बार फिर बारिश आ गई और मुकाबला रद्द कर दिया गया।

सभी लोग रह गए हैरान

इस मैच में भारत के नियमित सलामी बल्लेबाज़ की जगह हरफनमौला ऑलराउंडर कपिल देव मैदान में उतरे थे। यह पहला मौका था जब कपिल देव अपने करियर में ओपनिंग करने के लिए उतरे थे। कम ओवर को ध्यान में रखते हुए उन्हें इस भूमिका के लिए चुना गया था।

ऐसा भी हुआ है

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कई बार ऐसे मौके आए हैं, जब टॉस होने के बाद मैच नहीं हो पाया। लेकिन इस मैच में 2 गेंद फेंकी गई, जिसमें एक रन बना।

close