क्रिकेट इतिहास में तीन मौके जब पूरी टीम को ‘मैन ऑफ द मैच’ चुना गया, लिस्ट में भारतीय टीम भी शामिल

 


क्रिकेट के मुकाबलों में सबसे बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज से नवाजा जाता है। वनडे क्रिकेट में भारत के सचिन तेंदुलकर ने सबसे अधिक 62 बार ये खिताब अपने नाम किया तो वहीं साउथ अफ्रीका के ऑलराउंडर कैलिस को टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक 23 बार मैन ऑफ द मैच चुना गया। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अंतराष्ट्रीय मुकाबले में तीन मौके ऐसे आए जब किसी खिलाड़ी की जगह पूरी टीम को मैन ऑफ द मैच चुना गया। एक बार जहां टेस्ट में ऐसा देखने को मिला तो वहीं दो बार वनडे क्रिकेट में पूरी टीम को मैन ऑफ द मैच दिया गया।

साउथ अफ्रीका, 1999 बनाम वेस्टइंडीज

टेस्ट क्रिकेट में सिर्फ एक बार पूरी टीम को मैन ऑफ द मैच चुना गया है और पहली टीम बनी थी साउथ अफ्रीका। वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले गए पांचवें टेस्ट मैच के दौरान अफ्रीकी टीम ने शानदार खेल दिखाते हुए 351 रनों की जीत के साथ मैन ऑफ द मैच का खिताब अपने नाम किया था।

पहली पारी में साउथ अफ्रीका ने 313 रनों का स्कोर बनाया जिसमें मार्क बाउचर ने 100 और जैक कैलिस ने 83 रनों की बेहतरीन पारी खेली। जवाब में एलन डोनल्ड की अगुवाई में गेंदबाजों की कहर बरपाती गेंदबाजी के आगे वेस्टइंडीज की टीम 114 रनों पर ढेर हो गई। डोनल्ड ने जहां पांच विकेट लिए तो वहीं शॉन पोलाक और लांस क्लुजनर ने दो-दो विकेट लिए।

मेहमान टीम के पास विशाल बढ़त थी और उन्होंने दूसरी पारी में पांच विकेट पर 399 रन बना कर पारी घोषित कर दी। दूसरी पारी में गैरी कर्स्टन ने सर्वाधिक 134 रन बनाए तो वहीं जॉन्टी रोड्स ने 103 रनों की नाबाद पारी खेली। वेस्टइंडीज के सामने मैच को जीतने के लिए 569 रनों की जरूरत थी लेकिन पूरी टीम 217 रनों पर ही ढेर हो गई। दूसरी पारी में पॉल एडम्स ने सबसे अधिक चार विकेट झटके जबकि कैलिस ने दो विकेट लिए। साउथ अफीका की ओर से इस मैच में कई खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया ऐसे में पहली बार टेस्ट क्रिकेट में किसी टीम को मैन ऑफ द मैच चुना गया।

न्यूजीलैंड, 1996 बनाम वेस्टइंडीज

वनडे क्रिकेट इतिहास में पहली बार पूरी टीम को मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड 1996 में न्यूजीलैंड को मिला था जबकि विरोधी टीम एक बार फिर वेस्टइंडीज की रही। इस लो स्कोर मुकाबले में न्यूजीलैंड के गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन कर टीम को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी।

इस मुकाबले में न्यूजीलैंड की टीम पहले बल्लेबाजी करने उतरी लेकिन वेस्टइंडीज की कहर बरपाती गेंदबाजी के आगे 35.5 ओवर में 158 रनों पर ढेर हो गई। उनकी ओर से क्रेग स्पेयरमेन ने सबसे अधिक 41 जबकि क्रिस क्रेन्स ने 29 रनों का योगदान दिया। वेस्टइंडीज की ओर से विलियम्स ने सबसे अधिक 3 जबकि कर्टनी एंब्रोस और कोर्टनी वाल्श ने दो-दो विकेट झटके।

न्यूजीलैंड की टीम लंच से 40 मिनट पहले ऑल आउट हो गई थी जिसका फायदा उनके गेंदबाजों ने उठाया और 39 रन तक वेस्टइंडीज को 3 झटके दिए। लंच के बाद भी कीवी गेंदबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन जारी रखा और वेस्टइंडीज को 154 रनों पर ढेर कर दिया। न्यूजीलैंड की ओर से गेविन लार्सन,जस्टिन वॉन और क्रिस क्रेन्स ने दो-दो विकेट झटके जबकि दीपक पटेल, क्रिस हैरिस और नाथन एस्टल ने एक एक विकेट लिए। इस असाधारण जीत के लिए न्यूजीलैंड की पूरी टीम को मैन ऑफ द मैच चुना गया।

पाकिस्तान, बनाम इंग्लैंड 1996

1996 में दूसरी बार ऐसा देखा गया जब वनडे क्रिकेट में पूरी टीम को मैन ऑफ द मैच के लिए चुना गया। 1 सितंबर 1996 को खेले गए इस मैच में पाकिस्तान ने इंग्लैंड के खिलाफ दो विकेट से जीत दर्ज की थी। निक नाइट के शतक की बदौलत इंग्लैंड ने 246 रन बनाए। पाकिस्तान की ओर से वसीम अकरम ने सबसे अधिक 3 जबकि वकार युनिस, शाहिद नजीर और सकलैन मुश्ताक ने दो-दो विकेट झटके।

जवाब में पाकिस्तान ने मुकाबले को 8 विकेट खोकर दो गेंद पहले जीत लिया। पाकिस्तान की ओर से डेब्यू कर रहे सईद अनवर ने सबसे अधिक 61 रन बनाए जबकि एजाज अहमद ने 59 रनों की पारी खेली। मुकाबले के बाद पाकिस्तान की पूरी टीम को मैन ऑफ द मैच चुना गया।

close