टेस्ट क्रिकेट की चौथी पारी में दोहरा शतक जड़ने वाला इकलौता भारतीय बल्लेबाज

 


टेस्ट क्रिकेट में बल्लेबाजों के लिए गेंदबाजों ने कई बार कड़ी चुनौती पेश की है। इसमें सबसे ज्यादा एक बल्लेबाज की परीक्षा टेस्ट क्रिकेट की चौथी पारी में होती है जब पिच पूरी तरह से टूट जाती है। इस दौरान एक बल्लेबाज के धैर्य के साथ ही उसकी तकनीकी क्षमता की भी परीक्षा होती है।

किसी भी बल्लेबाज द्वारा टेस्ट क्रिकेट की चौथी पारी में की गई अच्छी बल्लेबाजी से उनकी टीम के सफल होने के अवसर बढ़ जाते हैं। साथ ही उस बल्लेबाज को ज्यादा सर्वश्रेष्ठ माना जाता है जो टेस्ट मैच की चौथी पारी में ज्यादा रन बनाता है। हालांकि कई भारतीय बल्लेबाज रहे हैं जिन्होंने टेस्ट मैच की चौथी पारी में काफी रन बनाए। लेकिन आज ऐसे भारतीय दिग्गज के बारे में बात करने जा रहे हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट की चौथी पारी में दोहरा शतक जड़ा है।

हम आपको इस आर्टिकल में उन 3 भारतीय बल्लेबाजों के बारे में बताते हैं जिन्होंने टेस्ट मैच की चौथी पारी में अपने करियर में सबसे ज्यादा रन बनाये हैं।

सुनील गावस्कर अपने जमाने के दिग्गज बल्लेबाज थे। ऐसे दौर में जब बैट्समैन के पास हेलमेट नहीं होता था उन्होंने जोएल गार्नर, एंडी रॉबर्ट्स, माइकल होल्डिंग और कर्टनी वॉल्श जैसे वेस्टइंडीज के खतरनाक तेज गेंदबाजों का सामना किया। उन्होंने ना केवल इन गेंदबाजों का सामना किया बल्कि रन भी बनाए। यही वजह है कि हर एक क्रिकेटर उनकी काफी इज्जत करता है।

सुनील गावस्कर जब एक बार क्रीज पर जम जाते थे तो उन्हें आउट करना बेहद मुश्किल हो जाता था। टेस्ट क्रिकेट की चौथी पारी में भी उन्होंने कई लाजवाब पारियां खेली और इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर हैं। गावस्कर ने चौथी पारी में 33 पारियों में 9 बार नाबाद रहते हुए 58.25 की शानदार औसत से 1398 रन बनाए। इस दौरान 4 शतक भी उन्होंने जड़े।

वो दुनिया के इकलौते ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट की चौथी पारी में दोहरा शतक लगाने का कारनामा किया है।

सुनील गावस्कर ने इंग्लैंड के खिलाफ 1979 में द ओवर में खेले गए टेस्ट मैच की चौथी पारी 221 रनो की शानदार पारी खेली थी।

close