जाने छिपकली कितनी जहरीली होती हैं


lizard

हम छिपकली को दूर से देखें तो कोई दिक्कत नही होती है। लेकिन उसके पास आने और शरीर मे छू जाने से हम अत्य अधिक डर और घबरा जाते हैं। कहीं हमे ये काट न ले। छिपकली की डरावनी शक्ल और त्वचा की सूखी और अजीब बनावट खौफ पैदा करती है लेकिन यह जितना डर पैदा करती है उतनी नुकसान देह नहीं होती है। 

घर में घूमने यह वाली छिपकली जहरीली नहीं होती है। और तो और यह काटती भी नहीं है। अगर थोड़ी बड़ी छिपकली है और वो गुस्से में या परेशान होकर काटने की कोशिश भी करे तो भी हमे काट नहीं पाती। क्योकि इसके मुंह में नुकीले दांत ही नहीं होते। यह से इंच तक लंबी हो सकती है। इसकी उम्र लगभग साल होती है। यह कीड़े-मकोड़ेआदि की तलाश में घूमती रहती है इन्ही को खाकर जिन्दा रहती है।

 20 -25 दिन में उग जाती है छिपकली की पूंछ

इसे दीवारों पर घूमने के लिए विशेष प्रकार के पंजे प्राप्त है। कुछ लोग छिपकली को भगाते नहीं है। क्यों कि यह घर में कीड़े-मकोड़े ख़त्म कर देती है। दिन में यह अँधेरी जगह छुपी रहती है। खतरे का अहसास होने पर यह अपनी पूंछ को अलग कर देती है जिससे हमलावर का ध्यान भटक जाता है और यह बच निकलती है। यह पूँछ 20 -25 दिन में वापस उग जाती है। 
लोगों के मन में छिपकलि को लेकर एक वहम हमेशा बना रहता है। यदि छिपकली खाने के सामान में गिर जाये तो क्या वह सामान छिपकली के कारण जहरीला हो जाता है। आपको डरने की बिल्कुल जरुरत नहीं है। घरेलु छिपकलि जहरीली नहीं होती है। इसकी त्वचा में भी किसी प्रकार का कोई जहर नहीं होता है। दरअसल इसके शरीर पर कई प्रकार के बीमारी फैलाने वाले बेक्टिरियाजीवाणुवायरस आदि होते है।

क्यों कि यह ऐसी जगह घूमती रहती है जहाँ धूलमिट्टीगन्दगी बहुत होती है। वहां से कीटाणु इसके शरीर पर चिपक जाते है। यदि छिपकलि खाने में गिरती है तो इन कीटाणु के कारण खाना संक्रमित हो जाता है। जिसे खाने पर लोग बीमार हो जाते है। जिस प्रकार मक्खी हमें बीमार कर सकती है उसी प्रकार छिपकली भी कर सकती है।
close