‘हमारे पास मजबूत सेना , लेकिन कमजोर पीएम ‘ चीन के मसले पर ओवैसी का मोदी पर हमला

 


भारत और चीन के सैनिको के बीच तवांग में हुई झड़प को लेकर सरकार के खिलाफ विपक्ष का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। विपक्ष सदन में सरकार से चर्चा की मांग कर रहा है जिसके लिए सरकार तैयार नहीं है। ऐसे में हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने पीएम मोदी पर तीखा हमले करते हुए कई बड़े सवाल किये हैं। उन्होंने यह भी कहा कि देश की सेना मजबूत है लेकिन पीएम कमजोर हैं।

ओवैसी ने कहा कि मोदी सरकार ने जनता और संसद को अंधेरे में रखा है। चीन की सच्चाई सामने आने से क्यों डर रही है? चीनी आक्रमण के बारे में तथ्यों को छिपाने में मोदी की क्या दिलचस्पी है?मोदी सरकार ने 2017 में दावा क्यों किया कि डोकलाम में डिसइंगेजमेंट के बाद समस्या हल हो गई है? सिर्फ इसलिए कि मोदी शी के साथ वुहान और चेन्नई में शिखर सम्मेलन करना चाहते थे। चीनी डोकलाम पर नहीं रुके हैं.

ओवैसी ने पीएम मोदी को घेरते हुए कहा कि जब चीन की बात आती है, तो इस सरकार के दावे आधे-अधूरे सच, भ्रामक तथ्यों और मनोरंजक विकर्षणों पर आधारित होते हैं। मोदी के नेतृत्व में भारत चीन के बाद दूसरे नंबर पर कैसे आ रहा है, इस बारे में तथ्य और सच्चाई जनता से छिपाई जा रही है। केवल एक संसदीय बहस ही उत्तर प्रदान कर सकती है.

हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने कहा कि यह मोदी सरकार की लीपापोती है। इसलिए संसद में बहस जरूरी है जहां पीएम को सवालों के जवाब देने चाहिए। हमारे लोगों से सच क्यों छुपाया जा रहा है?अगर ब्रिटेन के एक अखबार की यह रिपोर्ट सही है, तो इसका मतलब है कि चीन से लगी सीमा पर हालात उससे कहीं ज्यादा गंभीर हैं, जितना बताया जा रहा है. और गंभीरता लद्दाख से लेकर अरुणाचल तक फैली हुई है। इसके लिए सरकार से जवाब चाहिए।

ओवैसी ने कहा कि हमारे पास एक मजबूत सेना है लेकिन बहुत कमजोर पीएम है। वे चीन का नाम लेने से भी डरते हैं, देश और नेता के बारे में पूछे जाने वाले सवालों से दूर भागते हैं और अब एक बड़े संकट की आड़ ले रहे हैं. केवल एक पूर्ण बहस ही उत्तर की ओर ले जा सकती है। सरकार का रुख अस्वीकार्य है।

close