‘दारू पीकर मरने वालो को क्या हम मुआवजा देंगे ?’ शराबकांड में फिर भड़के नीतीश कुमार

बिहार में जहरीली शराब से मौतों के मामले बढ़ते जा रहे है। पहले छपरा में करीब 40 लोगो की मौत हुई। वहीं अब सीवान के भगवानपुर थाना अंतर्गत विभिन्न गांवों में कथित तौर पर जहरीली शराब पीने से 5 लोगों की मृत्यु हुई है।इन मौतों के बाद आक्रोशित भीड़ शव के साथ छपरा-मलमलिया मार्ग को जाम कर विरोध प्रदर्शन कर रही है। प्रशासन ने मामले का संज्ञान लिया है।

बिहार में शराबकांड को लेकर राजनीति भी अपने शबाब पर है। विपक्ष सदन से सड़क तक नीतीश सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहा है। बिहार विधानसभा में उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के अभिभाषण के दौरान विपक्ष के नेता हाथ में कुर्सी उठाते हुए देखे गए।वहीं पटना में बीजेपी ने जहरीली शराब मामले को लेकर राजभवन में विरोध मार्च निकाला।इस बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक बार फिर सदन में तिलमिलाते दिखे।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साफ़ कहा है कि वे शराब पीकर मरने वालो को कोई भी आर्थिक सहायता देंगे। सदन में बोलते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि मत पियो मरोगे। दारू पीकर मर जायेगा तो हम उसे मुआवजा देंगे। यह सवाल ही नहीं पैदा होता। यह कभी मत सोचिये। और यही करना है तो सब मिलकर तय कर लीजिये। खूब कहिये की शराब पियो। इसलिए यह सही नहीं है ,गड़बड़ पियेगा तो मरेगा। कम्युनिस्ट पार्टी भी इसके पक्ष में है। हमारा रिश्ता बहुत पुराना है।

नीतीश कुमार ने यह भी कहा कि जब हम संसद का चुनाव लड़ते थे तब पार्टियां हमारे साथ नहीं थी फिर भी कम्युनिस्ट पार्टियों के लोग हमारा साथ देते थे.नीतीश कुमार ने कहा कि कम्युनिस्ट पार्टियां भी शराबबंदी को लेकर हमारे पक्ष में हैं।

close