बैंक से लोन लेना हुआ और भी आसान, ऐसे बढ़ाएं अपना सिविल स्कोर

 


आप चाहे बिजनेस करते हों या फिर नौकरी पेशा से जुड़े हों, लोन की जरूरत कभी-कभी ही पड़ती है. लेकिन बैंक से लोन तभी मिलता है जब व्यक्ति का सिबिल स्कोर अच्छा होता है. कोई भी बैंक लोन देने से पहले सिबिल स्कोर चेक करता है और अगर यह अच्छा नहीं होता है तो लोन की एप्लीकेशन रिजेक्ट हो जाती है. ऐसे में जिस व्यक्ति को कर्ज की जरूरत होती है, उसे पैसों की कमी के कारण दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

सिबिल स्कोर ठीक करने के तरीके

अगर आप चाहते हैं कि आपका सिबिल स्कोर ठीक रहे तो इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि आपने जो भी कर्ज लिया है, उसे समय पर चुका दें। ईएमआई चुकाने में देरी न करें.

आपको अपनी क्रेडिट रिपोर्ट देखनी चाहिए. कई बार ऐसा होता है कि आपने अपनी तरफ से लोन भर दिया है और उसे बंद कर दिया है, लेकिन कुछ प्रशासनिक कारणों से लोन एक्टिव दिख रहा है. यह आपके क्रेडिट स्कोर को भी प्रभावित करता है. इसलिए क्रेडिट रिपोर्ट चेक करें.

अपना सिबिल स्कोर सुधारने के लिए लोन गारंटर बनने से बचें. इसके अलावा ज्वाइंट अकाउंट भी न खोलें। ऐसे में अगर दूसरा पक्ष डिफॉल्ट करता है तो इसका असर आपके सिबिल स्कोर पर दिखाई देता है.

अगर आप सिबिल स्कोर ठीक करना चाहते हैं तो यह भी ध्यान रखें कि एक बार में ज्यादा कर्ज न लें. अगर आप एक साथ कई कर्ज लेते हैं तो उन्हें चुकाने में देरी हो सकती है. ऐसे में सिबिल स्कोर गिरने की आशंका रहेगी.

अगर आप अपना सिबिल स्कोर सुधारना चाहते हैं तो जब भी कर्ज लें तो उसे लंबी अवधि के लिए लें. ऐसा करने से ईएमआई की रकम कम होती है और आप इसे आसानी से चुका सकते हैं. जब आप समय पर भुगतान करते हैं, तो सिबिल स्कोर अपने आप बढ़ जाएगा.

close